Published On : Fri, Nov 5th, 2021

कोराडी के पुराने पावर प्लांट मे तकनीकी निविदा घोटाला

– लालची मुख्य अभियंता तासकर की करतूत

नागपूर : कोराडी के पुराने 210 मेगावाट पावर प्लांट के अंतर्गत मेंटनैंन्श ऍण्ड पेट्रोलिंग आफ एशस्लेरी डिस्पोजल लाईन बुस्टर पंम्प इस कार्य के लिए जारी ई-निविदा मे हुए तकनीकी घोटाला को लेकर महानिर्मिती प्रबंधन मे खलबली मची हूई हैl तत्संबंध मे निविदा कमेटी की माने तो निविदा प्रपत्र प्रस्तुत करने वाली 3 फर्मों मे चंद्रपुर की प्रतिभाशाली फर्म मेसर्सः प्रीमियर प्लांट सर्विसेस की ओर से दर-भाव(प्राईच बीड) सबसे प्रथम कम दर यानी (फर्स्ट लोएस्ट) होने के कारण वह कसोटी मे खरी उतरी थी

जबकि अन्य प्रतिस्पर्धी दो कोराडी की फर्मों मे एक द्वितीय कम दर एवं दुसरी फर्म तृतीय कम दर भरने वाली फर्मों के हाथ से टेंडर निकल रहा थाl हालकि सभी तीनों एजेन्सियां तकनीकी रुप मे उत्तीर्ण मानी गई है l जबकि चंद्रपुर की फर्म हर संभव प्राईच-बीड व टैक्नीकल-बीड मे सबसे अग्रगण्य मानी जा रही है


इस कार्य की ई-निविदा क्रंमांक 3000021406 दिनांकः25 अगस्त 2021 अंकी गयी हैl जिसकी कीमत रुपये 49 लाख,61हजार 606 आंकी गयी है,परंतु अज्ञात कारणों से मुख्य अभियंता राजकुमार तासकर की पसंदीदा फर्म के पक्ष मे निविदा पास नही होने की वजह निविदा को निरस्त करना पड रहा हैl बताते है कि इस मामले मे मुख्य अभियंता की भूमिका बडी ही संदेहस्पद मानी जा रही हैंl हालकि इस प्रकरण मे गोपनीयता बरतने की सलाह निविदा कमेटी को दी गई थीl अब सुनियोजित तरीके रद्ध-(निरस्त) की गयी निविदा को पुनः आमंत्रित करने की योजना को अंजाम दिया जा रहा है

इस संदर्भ मे निविदा कमेटी के एक ईमानदार अफसर ने एन अश्विन नवरात्रि विजय दशमी धनतेरस,लक्ष्मीपूजन और दीपावली जैसे महापर्व के अवसर पर नैसर्गिक नियमों के खिलाफ कार्य नही करने की चिंताएं उसे सताए जा रही थी l जिसे लेकर धनतेरस की रात उसको अफसर की धडकने तेज होने लगी थीl नतीजतन उन्होने सच्चाई को उजागर करना बेहत्तर समझा l निविदा तकनीकी विशेषज्ञों की माने तो इस संबंध मे प्रतिस्पर्धी दोनो पार्टियों से आर्थिक लाभ के लालच मे मुख्य अभियंता श्रीमान तासकर को यह नियम विरोधी हरकतें करना पड रहा हैl परिणामतःएसा करना इस लालची मुख्य अभियंता को निकट भविष्य मे बहुत ही मंहगा पड सकता हैl