Published On : Fri, Dec 5th, 2014

​​वाशिम : शिक्षकों के समायोजन में भारी अनियमितताएँ


विमाशिसं ने आरोप जड़ न्याय नहीं मिलने पर आंदोलन की दी चेतावनी

वाशिम। शिक्षा का अधिकार अधिनियम (आरटीई) के अनुसार शिक्षकों को अतिरिक्त बताने व समायोजन प्रक्रिया के वक्त 23 अक्टूबर के सरकार का निर्णय कसौटी पर खरी नहीं उतरती है. यह आरोप विदर्भ माध्यमिक शिक्षक संघ ने लगाया है.  इस प्रक्रिया को तत्काल रद्द नहीं करने पर तीव्र आंदोलन करने की बात भी कही गई है.

प्राप्त जानकारी के अनुसार, जिले में शिक्षा का अधिकार अधिनियम अनुसार माध्यमिक स्कूलों की पट संख्या की जाँच-पड़ताल के बाद अतिरिक्त ठहराये गए शिक्षकों को अतिरिक्त बताने व अन्य स्कूलों में समायोजन करने की प्रक्रिया की गई है. इस प्रक्रिया में जिले के अनेक स्कूलों के 192 शिक्षकों को अतिरिक्त बताया गया है. तथापि इस प्रक्रिया में दोष व बड़ा आर्थिक अनियमितताएं बरत संचालित किए जाने का आरोप विमाशिसं ने बताया है.

निवेदन में बताया गया कि सरकार के 23 अक्टूबर  के निर्णय अनुसार जिले भर में सदोष समूह मान्यता, शिक्षक अतिरिक्त बताने व समायोजन की प्रक्रिया गलत पद्धति से किसी को विश्वास में न लेते हुए संचालित की गई है. अनेक स्कूलों में सेवा वरिष्ठता की जाँच न करते हुए गलत पद्धति से शिक्षकों को अतिरिक्त बता कर अन्याय किया गया है. सरकार के 23 अक्टूबर के निर्णय में 5वीं के लिए तीस विद्यार्थियों पर एक शिक्षक व तीस से अधिक 31 अथवा उससे ज्यादा विद्यार्थी होने पर 2 शिक्षक पद मंजूर किए जाने की प्रक्रिया पूरी तरह से अदूरदर्शी निर्णय है. शिक्षकों को अतिरिक्त व समायोजन का आदेश 26 नवम्बर 2014 को मुख्याध्यापकों को दिया गया था. जिस पर प्रेषित करने की तिथि 20 अक्टूबर 2014 दिया गया है. यह रहस्यमयपूर्ण बात  है. अनेक जगहों पर शिक्षक सेवकों को बचाकर सेवा वरिष्ठ शिक्षकों को अतिरिक्त बताया गया है. अनेक संस्थाओं ने अपने करीबी शिक्षक अथवा रिश्तेदारों के अतिरिक्त होते देख बोगस शिक्षकों के नाम अतिरिक्त बताकर कार्यालय को प्रेषित कर दी. कई जगहों में पहले ही बिना अनुदानित स्कूलों में शिक्षकों को शामिल कर उन्हें अतिरिक्त बताकर अनुदानित स्कूलों में समायोजन किया गया है.

सरकार के निर्णय में एक संस्था के अधिक स्कूल व पद होने से वहां अतिरिक्त शिक्षकों का समायोजन करने का नियम होने के बावजूद नियमबाह्य कर तालुका के बाहर शिक्षकों का समायोजन कर अन्याय किया गया है. इसलिए इस अनियमितताओं की जाँच कर गलत पद्धति से किया गया शिक्षकों को अतिरिक्त बताने व समायोजन की प्रक्रिया तत्काल रद्द की जाए अन्यथा विदर्भ माध्यमिक शिक्षक संघ की ओर से तीव्र आंदोलन किए जाने की चेतावनी विमाशिसं के जिलाध्यक्ष बालासाहेब गोटे, जिला कार्याध्यक्ष विनायक उज्जैनकर, कायवाहक अनन्त सुपनर, उपाध्यक्ष अनिल कराड़े, हित्वा बेनीवाले, अशोक ठाकरे, मंगेश धानोरकर, गणेश खाड़े, सयद अयूब के साथ सभी जिला व तालुका पदाधिकारियों ने दी है.

RTE

Representational pic