Published On : Mon, Aug 13th, 2018

सुराबर्डी लघु सिंचन प्रकल्प के मार्गों पर अतिक्रमण

Advertisement

नागपुर: सुराबर्डी स्थित लघु सिंचन प्रकल्प ( छोटा सा तालाब ) तक आवाजाही मार्गों पर बृजकिशोर हरगोविंद अग्रवाल समूह ने कब्ज़ा कर मार्ग को बंद कर दिया है.जिसे शुरू कराने के लिए संदीप अग्रवाल ने राज्य के जलसंपदा मंत्री गिरीश महाजन को पत्र लिख ध्यानाकर्षित किया.

संदीप अग्रवाल के अनुसार इसके पूर्व शिकायत नागपुर स्थित अजनी के कार्यकारी अभियंता से की थी, लेकिन उन्होंने गंभीरता से नहीं लिया. बृजकिशोर हरगोविंद अग्रवाल समूह ने १० वर्ष पूर्व सुराबर्डी मिडोस नामक क्लब शुरू किया था. इस समूह ने धीरे-धीरे निकट के तालाब परिसर को अपने कब्जे में लेकर वहां के पानी को रोक कर बिजली से रोशनाई की.

Advertisement
Advertisement

दूसरी ओर १० साल पूर्व उक्त समूह के अंकुर अग्रवाल को सिंचाई विभाग की २.०१ हेक्टर जगह पर्यटन विकास के लिए दी गई थी. जिसके एवज में अंकुर अग्रवाल को प्रतिवर्ष ६० हज़ार रुपए भरना अनिवार्य किया गया था. लेकिन इन १० वर्षों में अंकुर अग्रवाल ने रत्तीभर भी पर्यटन विकास के नाम पर कुछ भी नहीं किया. इसी जगह को अंकुर अग्रवाल ने लॉन में तब्दील कर व्यवसायिक इस्तेमाल कर करोड़ों की आय अर्जित की. साथ ही निकट के तालाब के पानी का भी दुरुपयोग कर आसपास के सिंचित क्षेत्रों को बाधित किया.

अंकुर अग्रवाल को वर्ष २००४ में १० वर्ष के लिए लीज पर जगह दी गई थी. जिसकी समय सिमा वर्ष २०१४ में ख़त्म हो गई थी. स्थानीय कार्यकारी अभियंता कार्यालय की शह पर ३ वर्ष मुफ्त में जगह का उपयोग कर वर्ष २०१८ में लीज की मियाद बढ़ाने हेतु निवेदन किया था, जिसमें कई त्रुटियां पाई गई थीं.

जलसंपदा मंत्रालय के सूत्रों के अनुसार अंकुर अग्रवाल के लीज का नवीनीकरण नहीं किया गया है. संदीप अग्रवाल ने अंकुर अग्रवाल द्वारा की गई ग़ैरकृत की जाँच कर दंडात्मक कार्रवाई की मांग की है.

Advertisement

Advertisement
Advertisement
 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement