Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
    | | Contact: 8407908145 |
    Published On : Mon, Nov 27th, 2017
    nagpurhindinews | By Nagpur Today Nagpur News

    Love jihad hearing: पढ़ाई के लिए कॉलेज जाएगी हादिया, SC में बोली- मुझे मेरी आजादी चाहिए

    Kerala Love Jihad Case, Hadiya
    नई दिल्ली: केरल लव जिहाद मामले में सुप्रीम कोर्ट में हादिया ने कहा कि मुझे मेरी आजादी चाहिए। हादिया से CJI ने पूछा कि क्या वो राज्य के खर्चे पर अपनी पढ़ाई जारी रखना चाहती है? हादिया ने जवाब में कहा कि वह पढ़ाई जारी रखना चाहती है लेकिन राज्य के खर्चे पर नहीं, बल्कि जब उसका पति उसकी जिम्मेदारी ले।

    इससे पहले हादिया के वकील कपिल सिब्बल ने कहा, ‘हादिया यहां हैं, कोर्ट को उन्हें सुनना चाहिए, NIA को नहीं, उन्हें अपनी जिंदगी का फैसला करने का अधिकार है।’ उधर एनआईए ने सुप्रीम कोर्ट में 100 पेज की जांच रिपोर्ट पेश की।

    सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर पढ़ाई के लिए हादिया कॉलेज जाएंगी और कॉलेज में हॉस्टल की सुविधा मिलेगी। मामले की अगली सुनवाई जनवरी के तीसरे हफ्ते में होगी।

    केरल हाईकोर्ट द्वारा मई, 2017 में 24 वर्षीया अखिला उर्फ हादिया और शफीन जहां की शादी को रद्द किए जाने के बाद से ही यह मामला राष्ट्रीय स्तर पर सुर्खियों में छाया हुआ है। केरल लव जिहाद के नाम से चर्चित इस मामले में हादिया के पिता केएम अशोकन ने आरोप लगाया है कि उनकी बेटी को सीरिया में आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट को सौंपने के लिए बहला-फुसलाकर इस्लाम कबूल करवाया गया है और उसका तथाकथित पति इस साजिश में महज एक मोहरा है।

    पिता के अनुसार उनकी बेटी की मानसिक स्थिति ठीक नहीं है। हाईकोर्ट के आदेशानुसार हादिया को उसके पिता की कस्टडी में दे दिया गया। अपनी शादी रद्द किए जाने के खिलाफ जहां ने अगस्त में सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया। शीर्ष अदालत ने 16 अगस्त को सुनवाई करते हुए इस मामले की जांच राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) को दे दी।

    जांच की निगरानी का जिम्मा सुप्रीम कोर्ट के सेवानिवृत्त जज को सौंपा गया।एनआईए ने सुप्रीम कोर्ट को बताया कि लव जिहाद के 89 मामलों में जबरन धर्म परिवर्तन कराने की बात सामने आई है और केरल में इस काम को एक स्थापित नेटवर्क अंजाम दे रहा है। एजेंसी ने कोर्ट को एक सीलबंद रिपोर्ट भी सौंपी है जिसमें हिंदू से मुस्लिम बनाई गई पीड़ित महिलाओं से बातचीत और धर्म परिवर्तन के इस खेल में शामिल लोगों के बारे में जानकारी दी गई है।

    मामले में आया नया मोड़
    सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि इस मामले में सबसे महत्वपूर्ण है महिला की राय क्योंकि वह वयस्क है और अपनी मर्जी से किसी से भी शादी कर सकती है। इसके मद्देनजर अदालत ने उसे 27 नवंबर को पेश करने का आदेश दिया ताकि उसकी मानसिक अवस्था का अंदाजा लगाया जा सके।

    एक और पिता ने डाली याचिका
    हादिया मामले की सुनवाई चल ही रही थी कि अक्तूबर में केरल के एक और पिता ने सुप्रीम कोर्ट में अर्जी दाखिल करते हुए आरोप लगाया कि उनकी बेटी को अफगानिस्तान में आईएस को सौंपने के लिए जबरिया धर्म परिवर्तन कराया गया है।

    हादिया से मिलीं महिला आयोग की अध्यक्ष
    नवंबर की शुरुआत में महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने हादिया से मुलाकात के बाद बताया कि वह बिल्कुल स्वस्थ और प्रसन्न है। उसके साथ मारपीट की खबरें बेबुनियाद है और उसकी सुरक्षा को लेकर कोई खतरा भी नहीं है।

    मैंने मर्जी से की है शादी
    सुप्रीम कोर्ट में पेश होने के लिए दिल्ली रवाना होने से पहले हादिया ने मीडिया को बताया कि उसने अपनी मर्जी से शफीन जहां से शादी की है और वह उसके साथ ही रहना चाहती है।


    Trending In Nagpur
    Stay Updated : Download Our App
    Mo. 8407908145