Published On : Fri, Oct 31st, 2014

सावली : अंतर-महाविद्यालयीय स्पर्धा में विद्यार्थियों का उत्कृष्ट प्रदर्शन

Advertisement


डॉ. क़ाज़ी ने कहा : विद्याथियों के सर्वांगीण विकास ही हमारा लक्ष्य हो

Cultural program
सावली (चंद्रपुर)।
किताबी ज्ञान के अलावा विद्याथियों के सुषुप्त गुणों को तरजीह देकर सांस्कृतिक व खेल सहित अन्य क्षेत्रों में भी उनका विकास किया जाना चाहिए. इसी उद्देश्य को लेकर विद्यापीठ प्रत्येक वर्ष अंतर-महाविद्यालयीय सांस्कृतिक स्पर्धाएँ आयोजित करता आ रहा है. उक्त विचार प्राचार्य डॉ. सरताज़ क़ाज़ी ने गोंडवाना विद्यापीठ, गड़चिरोली के अंतर्गत सावली स्थित राष्ट्रपिता महात्मा गांधी कला-वाणिज्य महाविद्यालय के प्रांगण में आयोजित अंतर-महाविद्यालय स्पर्धा -2014 के उद्घटन अवसर पर व्यक्त किए.

कार्यक्रम की अध्यक्षता भाशिप्र मण्डल सावली के सचिव राजबालपाटील सांगिडवार ने की. अवसर पर विद्यापीठ के विकवि के संचालक डॉ. ईश्वर मोहुर्ले, रासेयो विभाग के चंद्रपुर जिलाध्यक्ष प्रा. डॉ. ए. चन्द्रमौली प्रमुखता से उपस्थित थे. संचालन डॉ. राजश्री मार्कण्डेयवार ने किया। डॉ. प्रफुल वैराले ने आभार माना.

Advertisement

Cultural program
चार दिनों तक चले इस सांस्कृतिक स्पर्धा में लोकनृत्य, शास्त्रीय नृत्य स्पर्धा, शास्त्रीय व सुगम संगीत, समूह गीत स्पर्धा, शास्त्रीय ताल वाद्य, ताण वाद्य, पाश्चात्य एकल व समूह गायन स्पर्धा, लघु नाटिका, मुक्त नाटिका, मिमिक्री नाटक, चित्रकला, हस्तकला, पोस्टर स्पर्धा, रंगोली स्पर्धा, अभिनय वक्तृत्व स्पर्धा, वाद-विवाद स्पर्धा, प्रश्न-मंजूषा, कोलाज मेकिंग स्पर्धायें ली गई. वहीँ इन्द्रधनुष कार्यक्रम में विद्यापीठ के अंतरगत कार्यरत बहुसंख्या महाविद्यालयों ने भाग लिया. लोकनृत्य स्पर्धा में सरदार पटेल महाविद्यालय चंद्रपुर के रोहित गाडगे की टीम प्रथम, गढ़चिरोली के शिवाजी महाविद्यालय के स्वप्निल कुसराम की टीम ने दूसरा जबकि सर्वोदय महाविद्यालय, सिंदेवाही के नितेश पुरुषोत्तम मडावी व उसकी टीम को तीसरे स्थान पर समाधान करना पड़ा. शास्त्रीय नित्य स्पर्धा में सरदार पटेल महाविद्यालय, चंद्रपुर के भाग्यश्री तम्बोली प्रथम, एफ.ई.एस. गर्ल्स कॉलेज, चंद्रपुर की पूजा मडावी द्वितीय तथा राष्ट्रपिता महात्मा गांधी महाविद्यालय सावली की सुमित्रा प्रधाने तृतीया रही. शास्त्रीय संगीत में सरदार पटेल महाविद्यालय, चन्द्रपुर के प्रणय गोमसे प्रथम, एफ.ई.एस. गर्ल्स कॉलेज, चंद्रपुर की प्रिया फुलझेले द्वितीय रही. सुगम संगीत में सरदार पटेल महाविद्यालय, चन्द्रपुर के समूह प्रथम, एफ.ई.एस. गर्ल्स कॉलेज, चंद्रपुर के समूह द्वितीय तथा चिन्तामणि महाविद्यालय, पोंभुर्णा के समूह तृतीय रहा. समूह गीत, शास्त्रीय ताल-वाद्य, शास्त्रीय ताण-वाद्य, पाश्चात्य एकल गान व पाश्चात्य समूह गायन स्पर्धा में सरदार पटेल महाविद्यालय, चन्द्रपुर अव्वल रहा. राष्ट्रीय एकात्मता विषय पर वक्तृत्व स्पर्धा में तडोधी के गोविंदप्रभु महाविद्यालय के कनु चांदेकर प्रथम, सरदार पटेल महाविद्यालय, चन्द्रपुर की सरला बलरू द्वितीय तथा सर्वोदय महाविद्यालय, सिंदेवाही की सीमा चहरे तृतीया क्रम पर रही. वाद-विवाद स्पर्धा ‘सध्याच्या निवडणुक कायद्यांमध्ये बदल करणे आवश्यक आहे किंवा नाही’  विषय स्पर्धा में भद्रवती के नीलकण्ठराव महाविद्यालय की प्रियंका बैस प्रथम, कला-वाणिज्य महाविद्यालय, भिसी की कोमल कामडी द्वितीय, सर्वोदय महाविद्यालय, सिंदेवाही तृतीया रहे. प्रश्न-मंजूषा स्पर्धा में 8 महाविद्यालयों ने भाग लिया, इसमें सरदार पटेल महाविद्यालय, चन्द्रपुर प्रथम, शिवाजी महाविद्यालय, गढ़चिरोली द्वितीय तथा यादवराव पोशेट्टीवार महाविद्यालय, तिलोधी तृतीया रहीं। पोस्टर स्पर्धा में डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर महाविद्यालय, ब्रह्मपुरी प्रथम, गोविंदप्रभु महाविद्यालय, तिलोधी दूसरा तथा चिंतामणि महाविद्यालय, पोंभुर्णा तीसरे स्थान पर रहा.

Advertisement
Advertisement

Cultural program
कोलाज मेकिंग स्पर्धा में ब्रह्मपुरी के डॉ. आंबेडकर महाविद्यालय प्रथम, ग्रामगीता महाविद्यालय चिमूर द्वितीय रहा. मॉडलिंग स्पर्धा में पोंभुर्णा के चिंतामणि महाविद्यालय प्रथम, गोविंदप्रभु महाविद्यालय, तळोधी दूसरे स्थान पर रहा. राष्ट्रपिता महात्मा गांधी महाविद्यालय, सावली की विधीता रायपुरे रंगोली स्पर्धा में प्रथम रही. लघु नाटिका, मूक नाटिका तथा नाटक स्पर्धा में चंद्रपुर के सरदार पटेल महाविद्यालय अव्वल रहा. शासकीय विज्ञान महाविद्यालय, गढ़चिरोली लघु नाटिका तथा मूक नाटिका में द्वितीय रहा तथा नीलकण्ठ शिंदे महाविद्यालय, गढ़चिरोली द्वितीय तथा नीलकण्ठ शिंदे महाविद्यालय, भद्रावती तृतीय रहा. सरदार पटेल महाविद्यालय, चन्द्रपुर के रोहित गाडगे मिमिक्री में प्रथम तथा शासकीय विज्ञान महाविद्यालय, गडचिरोली के राजेंद्र विश्वास द्वितीय रहा.

अंत में स्पर्धा के विजेताओं को मान्यवरों द्वारा पुरस्कारों से सम्मानित किया गया. अवसर पर डॉ. ईश्वर मोहुर्ले, आयोजक महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ. ए. चंद्रमौली, डॉ. इंदोरकर, प्रा. दिवाकर कटपल्लीवार के साथ महाविद्यालयों के प्राध्यापक व प्राचार्य उपस्थित थे. संचालन प्रा. संदानन्द बागडे तथा आभार प्रा. देव वताखेरे ने माना। स्पर्धा के परीक्षक हीरालाल पेंटर, प्रा. रत्नाकर बोमीडवार, प्रा. किशोर ओल्लरवार, भालचंद्र गुरूजी, अश्विनी खोब्रागडे, संतोष बारसागड़े, डॉ. बी.एम. करहडे, राजेश कैतवार, डॉ. फारूख  शेख, प्रा. स्वेता खर्चे, प्रा. विजय रुद्रकार, प्रविण ठगे ने कमान संभाली। सफलतार्थ प्रा. डॉ. चंद्रमौली के मार्गदर्शन में महाविद्यालय के प्रा. संदीप देशमुख, प्रा. विनोद वडवाइक, प्रा. कु. प्रेरणा मोदक, डॉ. नीलिमा उमाटे, डॉ. अशोक खोब्रागड़े, प्रा. विजय पवार, प्रा. भास्कर सुकारे, प्रा. दिलीप सोनटक्के, प्रा. प्रशांत वासाडे, प्रा. दिवाकर उराडे आदि ने अथक प्रयास किये.

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
 

Advertisement