Published On : Mon, Mar 5th, 2018

परीक्षा में चैकिंग के नाम पर उतरवाए छात्राओं के कपड़े, शिक्षा मंत्री ने दिए जांच के आदेश

Vinod Tawde
पुणे: महाराष्ट्र के पुणे स्थित महाराष्ट्र इंस्टीट्यूट आफ टेक्नोलॉजी (एमआईटी) के गुरूकुल स्कूल में एग्जाम की चैकिंग के दौरान 12वीं की दो छात्राओं के कपड़े उतरवाए जाने का मामला बढ़ता जा रहा है. महाराष्ट्र शिक्षा मंत्री ने मामले में जांच के आदेश दे दिए हैं. पुलिस ने शिकायत के आधार पर एमआईटी कॉलेज की महिला सुरक्षा गार्ड्स के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली है. दोनों सुरक्षा गार्डों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की विभिन्न धाराओं और पोक्सो कानून के तहत मामला दर्ज किया है. कथित घटना 21 से 28 फरवरी के बीच हुई परीक्षा के दौरान महाराष्ट्र इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (एमआईटी) के गुरूकुल स्कूल में हुई जिसको लेकर अभिभावकों में काफी नाराजगी है.

महाराष्ट्र के शिक्षा मंत्री विनोद तावड़े ने मामले में जांच के आदेश की जानकारी मीडिया को दी. उन्होंने इस घटना की आलोचना भी की है. राज्य शिक्षा मंत्री विनोद तावड़े ने घटना की आलोचना करते हुए कहा कि, ‘लड़कियों की इस तरह से जांच करना बिल्कुल गलत है. बोर्ड ने ऐसी जांच के बिल्कुल आदेश नहीं दिए थे. हम एग्जाम सेंटर बदलने पर भी विचार कर रहे हैं’.

बोर्ड ने नकारी छात्राओं के कपड़े उतरवाने की बात
मामला सामने आने पर महाराष्ट्र राज्य माध्यमिक और उच्च माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने इस बात से इनकार किया कि कक्षा 12वीं की परीक्षा में बैठने वाली दो नाबालिग छात्राओं की स्कूल में दो महिला सुरक्षा गार्ड ने नकल रोकने के लिए ‘‘कपड़े उतरवाकर जांच की.’’ प्रारंभिक जांच का उल्लेख करते हुए बोर्ड के एक अधिकारी ने कहा कि महिला गार्ड ने लड़कियों की कपड़े उतरवाकर जांच नहीं की.

दर्ज किए गए स्कूल के बयान
महाराष्ट्र राज्य माध्यमिक और उच्च माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के पुणे डिविजन के सचिव बी के दहिफाले ने कहा, ‘‘हमने महाराष्ट्र राज्य माध्यमिक और उच्च माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के पुणे डिविजन के अधिकारियों की दो सदस्यीय एक टीम गठित की है. टीम ने स्कूल का दौरा किया और केंद्र प्रमुख, स्कूल प्रबंधन और महिला कर्मचारियों के बयान दर्ज किए गए हैं’’.