Published On : Sat, Feb 23rd, 2019

स्थाई समिति बैठक में लिए गए महत्वपूर्ण निर्णय

समिति सभापति कुकरेजा ने दी जानकारी

Vicky Kukreja

नागपुर: मनपा स्थाई समिति बैठक के उपरांत एक पत्र-परिषद् के माध्यम से सभापति विक्की कुकरेजा ने जानकारी दी कि आज के बैठक में मनपा,शहर,नागरिक हित में महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए.

१५३ कम्प्यूटर ऑपरेटर को मिलेगी प्राथमिकता
मनपा में सीधी भर्ती बंद और दिनोदिन कर्मियों की सेवानिवृत्त से बढ़ते जा रहे काम का बोझ से निपटने के लिए ठेकेदारी पद्धति पर कम्प्यूटर ऑपरेटरों की नियुक्ति की गई.सम्बंधित ठेकेदार का ठेका समयावधि २ मार्च २०१९ को समाप्त हो रहा और न्यूनतम वेतन श्रेणी के तहत वेतन करने के प्रस्ताव पर स्थाई समिति ने नए सिरे से टेंडर निकालने का निर्देश दिया और यह भी आश्वस्त किया कि मनपा के विभिन्न विभागों में कार्यरत १५३ ऑपरेटरों के अनुभवों को ध्यान में रख कर नई भर्ती में इन्हें प्राथमिकता दी जाएंगी।

साइबरटेक व अनंत टेक्नोलॉजी को जुर्माना
कुकरेजा के अनुसार समय पर शहर भर की संपत्ति का मूल्यांकन न करने पर साइबरटेक को १ लाख रूपए और अनंत टेक्नोलॉजी को ५० हज़ार रूपए जुर्माना किया गया.साथ ही इन दोनों एजेंसी को काम ख़त्म करने के लिए ३१ मार्च तक का समय भी दिया गया.काम समाप्ति के बाद शहर की कुल साढ़े ६ लाख संपत्ति अर्थात ७८६००० यूनिट कर के दायरे में आएंगी।फ़िलहाल ६८००० ओपन प्लाट और १३८०० संपत्ति का अंकेक्षण होना बांकी हैं.
अबतक १६५ करोड़ का संपत्ति कर संकलन हुआ हैं,३१ मार्च तक ३५० करोड़ तक संपत्ति कर वसूल करने का आश्वासन दिया गया.इसके अलावा २७३ करोड़ का बकाया हैं,जिसमें से १०० करोड़ का संपत्ति कर का अंकेक्षण विवाद में है,अपील या न्यायालयीन हैं.६३ करोड़ सरकारी विभागों पर बकाया हैं.मनपायुक्त के पास ४२ करोड़ के मामले अपील में हैं.सरकारी विभागों से बकाया संपत्ति कर वसूली हेतु मामलात पर अतिरिक्त आयुक्त रविंद्र ठाकरे की देखरेख में कार्यवाही की जा रही हैं.

निधि आभाव में अधिग्रहण टली
गोरेवाड़ा में कैटल स्टेबल एंड डेरी फर्म के लिए आरक्षित जगह का भू-सम्पादन का प्रस्ताव आया था.जमीन मालिक को ३,६७,०७,४४० रूपए के प्रावधान पर समिति ने निधि आभाव में जमीन अधिग्रहण का मामला छोड़ दिया।

बिजली बचत के लिए सोलर पैनल का उपयोग
मनपा के सभी इमारतों पर सोलर पैनल लगाए जायेंगे।इस सम्बन्ध के प्रस्ताव को मंजूरी दी गई.टेंडर के तहत ठेकेदार को २० वर्ष तक सेवा देना होंगा,उन्हें मासिक किश्त देनी होंगी।२० वर्षो में मनपा को ५३५ करोड़ का लाभ होंगा और मनपा को ९४७ करोड़ ठेकेदार को देने होंगे।अबतक ७८००० एलईडी आये और जिनमें से ६६००० लगाए गए.

ऋण के रकम का खर्च ब्यौरा
मनपा ने २०० करोड़ का लोन लिया था.जिसके खर्चे का अंकेक्षण किया गया.इस हिसाब से सीमेंट सड़क को ५० करोड़,अमृत योजना के लिए ५० करोड़,बुधवार-सक्करदरा बाजार निर्माण के लिए २५ करोड़,ऑरेंज सिटी स्ट्रीट प्रकल्प के लिए २५ करोड़ और ओसीडब्लू का बकाया चुकता के लिए ५० करोड़ आरक्षित किया गया हैं.

ओसीडब्लू को २०२१ तक मुद्दत बढ़ी
ओसीडब्लू का कार्यकाल २०१७ तक था,जिसे ५ वर्ष बढाकर २०२१ तक कर दिया गया.ओसीडब्लू में मनपा पर ४२ करोड़ का ब्याज लगाया था,जिसे रद्द करने की जानकारी सभापति कुकरेजा ने दी.उनके अनुसार ओसीडब्लू का ‘रेट रिवीजन’ भी रद्द कर दिया गया.ओसीडब्लू का मूल कार्यकाल २५ वर्ष का था,जिसमें ५ वर्ष बढ़ोतरी की मांग थी,उसे नामंजूर कर दिया गया.ओसीडब्लू को दिए गए ‘एक्सटेंशन पीरियड’ में ‘आर एंड आर’ का काम पूर्ण किया जाएगा।