Published On : Tue, Jul 30th, 2019

अंतरिक्ष विज्ञानः छोटा शहर- बड़ी प्रतिभा

चंद्रयान- 2 के सफल प्रक्षेपण के गवाह बने नीरज वर्मा

गोंदिया: जहां नहीं पहुंच पाया दुनिया का कोई देश, चांद के उस हिस्से पर उतरेगा भारत का चंद्रयान-2.पृथ्वी के एक मात्र उपगृह चंद्र्रमा पर भारत अपना दुसरा महत्वकांक्षी मिशन चंद्रयान-2 अपने शक्तिशाली रॉकेट लांचर (ॠडङत चघ- 3 ) के जरिए प्रक्षेपित कर चुका है।

बाहुबली कहे जा रहे चंद्रयान-2 का प्रक्षेपण देखने के लिए भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने इस मौके पर देश के कई शहरों से विज्ञान में रूची रखने वाले बुद्धिजिवीयों को आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा में आमंत्रित किया।

शासकीय संस्था नेहरू साइंस सेंटर मुंबई के सदस्य तथा गोंदिया के गड्ढ़ाटोली स्थित वर्मा सांइटिफिक के संचालक नीरज वर्मा तथा उनकी पत्नी रश्मी वर्मा ने ऑनलाइन रजिस्टे्रशन लिया और 22 जुलाई को श्रीहरिकोटा गए और वे महत्वकांक्षी मिशन चंद्रयान-2 के सफल प्रक्षेपण के गवाह बने।

विज्ञान में खास रूची रखते है गोंदिया के रॉकेट मेन नीरज
पेशे से साइंटिफिक डिलर होने के नाते विज्ञान के क्षेत्र में खास रूची रखने वाले नीरज वर्मा की तीसरी पीढ़ी विज्ञान से संबधित उपकरणों की बिक्री का व्यवसाय करती है लिहाजा इस क्षेत्र के एक्सपर्ट से मिलने-जुलने के बाद उन्हें काफी कुछ नया अनुभव मिला तथा उन्होंने अपने ग्राम अदासी स्थित फार्म हाऊस पर आरसीसी सीमेंट पाइप और मोलडेड प्लास्टिक के टोटल वेस्ट मटेरियल का इस्तेमाल करते हुए महज 8 हजार रूपये की लागत में चंद्रयान-2 उपग्रह को प्रक्षेपित करने वाले मिसाइल का 15 फिट ऊंचा मॉडल (ॠडङत चघ- 3) तैयार किया। इसके अतिरिक्त उन्होंने पूर्व में भेजे गए उपग्रहों के कई डिजाईन भी तैयार कर रखे है।

गांव के बच्चों को करायी, धरती पर मंगल की सैर
नीरज ने बताया, शिक्षा नामक गु्रप वे और उनके दोस्त बिना सरकारी अनुदान लिए चलाते है तथा गांव के छात्रों को प्रोत्साहित करने हेतु ‘ धरती पर मंगल की सैर.. ’ नामक इवेन्ट भी उन्होंने लिया था , इस उपक्रम में बांस के बड़े टुकनों से मंगलगृह बनाया गया था जिसके बाजू में सेटेलाइट घुमता हुआ दिखाया गया था, इसे काफी प्रतिसाद मिला।

मिसाइल मेन डॉ. अब्दुल कलाम को अनोखे अंदाज में श्रद्धांजलि देने हेतु प्रोजेक्टर पर उनकी बायोग्राफी दिखाते हुए गांव के 500 से अधिक बच्चों को विज्ञान के क्षेत्र में उनकी उपलब्धियों की जानकारी दी गई। हाल ही में बड़े टेलिस्कोप के माध्यम से इस्काय शो लिया तथा गांव के बच्चों को मून कैसा दिखता है? इसके बारे में विस्तृत जानकारी दी, उसके बाद चंद्रग्रहण हुआ तो उसको भी टेलिस्कोप के माध्यम से दिखाया गया तथा चंद्रग्रहण को लेकर जो लोगों के मन में भ्रांतियां है उसे दूर किया।

गोंदिया के गौरव नीरज को कायस्थ समाज ने किया सम्मानित
विज्ञान के क्षेत्र में नित नए प्रयोग करने वाले नीरज वर्मा अब गोंदिया में मिसाइल मेन के नाम से जाने जाते है। उनकी इस उपलब्धी के लिए कायस्थ समुदाय की ओर से चित्रगुप्त कालोनी में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान उन्हें सम्मानित किया गया तथा शुभचिंतकों ने उन्हें उजज्वल भविष्य हेतु शुभकामनाएं दी।

रवि आर्य