Published On : Wed, Jan 8th, 2020

तृतीयपंथीय कल्याण मंडल की जल्द ही स्थापना – पवार

मुंबई: राज्य में तृतीयपंथीयों के लिए काम करनेवाले विशेषज्ञों का समावेश कर तृतीयपंथीय कल्याण मंडल करने का सरकारी निर्णय होकर भी प्रलंबित है. यह मंडल तत्काल अस्तित्व में लाने के निर्देश उपमुख्यमंत्री अजित पवार ने आज यहां दिए.

तृतीयपंथीयों के विविध प्रश्नों के संदर्भ में आज मंत्रालय में आयोजित बैठक में श्री.पवार बोल रहे थे.

श्री.पवार ने कहा, तृतीयपंथीय समाज घटकों की सर्वांगीण उन्नति होने और उन्हें समाज के मुख्य प्रवाह में लाना जरूरी है. साथ ही इस समाज घटक की समस्याएं अधिकांश विभिन्न स्वरूप की है. इसलिए सरकार के विविध विभाग और इस क्षेत्र में कार्यरत विशेषज्ञ व्यक्तियों को लेकर उनके विकास के लिए तृतीयपंथीय कल्याण मंडल के रूप में स्वतंत्र कल्याणकारी उपाययोजनात्मक यंत्रणा निर्माण की जाएगी. इस मंडल के मार्फत तृतीयपंथीयों को सरकार की विभिन्न योजनाओं का लाभ दिलाकर उनका आर्थिक एवं सांस्कृतिक विकास किया जाएगा.

तृतीयपंथीयों की समस्या छुड़ाने के लिए इस मंडल की ओर से मराठी भाषा में हेल्पलाइन शुरू की जाएगी. उनका समाजिक, शैक्षणिक और आर्थिक विकास करने के लिए इस कल्याण मंडल के मार्फ़त प्रयास किए जाएंगे, ऐसा श्री.पवार ने इस समय बताया.

इस अवसर पर सामाजिक न्याय एवं विशेष सहायता मंत्री धनंजय मुंडे, सार्वजनिक स्वास्थ मंत्री राजेश टोपे, सांसद सुप्रिया सुळे, तृतीयपंथी प्रतिनिधि मंडल की गौरी सावंत, सामाजिक न्याय एवं विशेष सहायता विभाग के प्रधान सचिव दिनेश वाघमारे, वित्त विभाग के प्रधान सचिव नितिन गद्रे, दिव्यांग कल्याण आयुक्त श्रीमती प्रेरणा देशभ्रतार के साथ विभिन्न विभागों के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे.