Published On : Thu, Nov 10th, 2016

ग्राहकों की नाराजगी के चलते एसएनडीएल ने बंद किये केंद्र ,जनता से सहयोग की अपील

sndl-counters-1

नागपुर : केंद्र सरकार द्वारा 500 और हजार के नोट बंद किये जाने के फैसले पर अब सरकारी और निजी कार्यालय ने अमल करना शुरू कर दिया है। नागपुर में बिजली प्रदाता कंपनी एसएसडीएल ने भी सूचना जारी करते हुए सरकार के फैसले को संस्थान में लागू किये जाने की जानकारी दी है। कंपनी के मुताबिक 8 नवंबर 2016 की मध्यरात्रि से तत्काल प्रभाव से जारी निर्णय पर अमल लेते हुए प्रतिबंधित नोटों को नहीं ले रही है।

कंपनी ने नोटिस जारी कर कहाँ है कि “एसएनडीएल ने भी किसी भी प्रकार के लेन-देन हेतु उपरोक्त राशि के नोटों को स्वीकार करना बंद कर दिया है। अतः आज, दिनांक 9 नवंबर 2016 की प्रातः कार्यालयीन समय से ही किसी भी एसएनडीएल कलेक्शन केंद्रोंएवं अन्य कार्यालयों ने उपरोक्त धनराशि के नोट स्वीकार नहीं किए। वैसी ही, कोई भी अन्य कार्यालयीन व्यवहार इस धनराशि के नोटों के माध्यम से नहीं किया गया। ”

sndl-counters-2
कंपनी के अनुसार उसने यह कदम महावितरण के नोडल कार्यालय से प्राप्त आदेश के बाद उठाया है। पर उपभोक्ताओं द्वारा वर्जित धनराशि में बिल स्वीकार करने हेतु बाध्य करने और न स्वीकार करने पर कर्मचारियों के साथ दुर्व्यव्हार किए जाने पर कुछ केंद्रों को कुछ समय के लिए बंद करना पड़ा है। कंपनी ने सरकार के आदेश का पालन करते हुए ग्राहकों से सहयोग की अपील की है। कंपनी ने ग्राहकों से अब चेक / डिमांड ड्राफ़्ट, गूगल प्लेस्टोर पर उपलब्ध एसएनडीएल मोबाइल एप्प और एसएनडीएल की वेबसाइट (www.sndl.in) आदि से पेमेंट करने की अपील की है।