Published On : Sat, Jan 12th, 2019

झोपड़पट्टियों से कचरा संकलन कब शुरू होगा

बढ़ते जा रही कर्मचारियों और साधनों की कमी नागपुर.

स्वच्छ भारत अभियान के तहत स्वच्छता सर्वेक्षण के लिए शहर भर में स्वच्छता के नाम पर लीपापोती की जा रही है. वहीं शहर में मनपा, नासुप्र, नजूल व निजी भूखण्डों पर बसी झोपड़पट्टियों में यह अभियान कोसों दूर है. यही वजह है कि नागरिक कचरे को खुले भूखंडों या फिर नाले में ठिकाने लगाने पर मजबूर हैं.

Advertisement

एक तरफ राज्य सरकार झोपड़पट्टी रहवासियों को मालकी पट्टे दे रही है तो दूसरी ओर सफाई के इंतेजामें से वंचित रखकर अन्याय कर रही है. इन झोपड़पट्टियों में कचरे के डब्बे तक नहीं रखे जाते. इस बात का खुलाया महापौर और पालकमंत्री के दौरे व जनसंवाद के दौरान हुआ. इससे परेशानी और बढ़ते जा रही है.

Advertisement

उल्लेखनीय है कि शहर में कुल ४२४ झोपड़पट्टियां है. इनमें से अधिकृत २९३, अनाधिकृत १३७, नासुप्र की जगह पर ५२, मनपा की जगह पर १५, निजी जगह पर ८६, शासकीय जगह पर ७०. उक्त बस्तियों से रोज अंदाजन १२५-१५० टन कचरा निकलता है, जो आसपास के नालों और खुले जगह पर फेंकी दिया जाता है.

Advertisement

Advertisement

Advertisement
Advertisement
 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement