Published On : Mon, Aug 17th, 2020

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद फडणवीस के जवाबो को वर्षो याद रखेगा सिंधी समाज

विश्व के सिंधी समाज से रूबरू होकर बेबाक जवाब दिए देवेंदजी ने।

नागपुर ,पूरे विश्व मे 37 देशों में भारत मे 24 राज्यो और महाराष्ट्र के 32 जिल्हो में सिंधी समाज से जुड़ी विश्व सिंधी सेवा संगम से पूर्व मुख्यमंत्री महाराष्ट्र श्री देवेंद्रजी फडणवीस ने गुरुवार को वेब शो दी जेंटलमैन में एक घंटे तक लाइव शो में सिंधी समाज और देश से जुड़े विषयों पर ऐसे प्रभाव शाली जवाब दिए जिसे वर्षो तक सिंधी समाज और सभी दर्शक भुला नही पाएंगे।।विश्व सिंधी सेवा संगम के महाराष्ट्र के अध्यक्ष प्रताप मोटवानी ने बताया कि पूरे विश्व के सिंधी समाज और कार्यक्रम हिंदी में होने से सभी लोगो ने लाखों की संख्या में इसे देख गौरवांवित महसूस किया।मोटवानी ने बताया कि जब उन्होंने श्री देवेंदजी फडणवीस से इस कार्यक्रम हेतु सहमति मांगी उन्होंने अगले ही पल इसकी सहमति दी और पूरे 1 घंटे का समय देकर अनुग्रहित किया।।कार्यक्रम के शुरुवात में मोटवानी ने प्रस्तावना में महाराष्ट्र के सिंधी समाज की तरफ से उनका ह्रदय पूर्वक आभार माना जो देवेंद्रजी सरकार ने 2018 में पूरे महाराष्ट्र में सिंधी समाज को ब वर्ग से अ वर्ग में लाकर लीज पट्टों का मालकियत हक देने की घोषणा की वह दिन 70 साल में आजादी के बाद सिंधी समाज मे स्वर्णीय अक्षरों में लिखा जाएगा

Advertisement

70 साल के इंतजार के बाद सिंधी समाज को मालकियत लीज पट्टों का वितरण किया गया।महाराष्ट्र में पाकिस्तान से आये भाई बहिनो को नागरिकता प्रदान की गयी।मोटवानी ने बताया कि दिसम्बर 2018 में महाराष्ट्र के सिंधी समाज ने श्री देवेंद्रजी का नागपुर जरिफ्टका में भव्य सत्कार किया गया।और नागपुर से ही मालकियत लीज पट्टों का वितरण देवेंद्रजी के करकमलों द्वारा किया गया।।सिंधी समाज की तीसरी पीढ़ी को यह वितरण किया गया।।देवेंदजी के इस कार्य के लिए महाराष्ट्र का सिंधी समाज उनका सदैव ऋणी रहेगा।।मोटवानी ने उनसे कहा कि पूरे महाराष्ट्र का सिंधी समाज जल्द से जल्द उन्हें वापिस मुख्यमंत्री पद पर देखना चाहता है।।तत्पश्चात मिस इंडिया सिमरन आहूजा और विश्व सिंधी सेवा संगम की राष्ट्रीय महिला अध्यक्ष भारती छाबरिया ने देवेंदजी का पूरा जीवन परिचय विस्तृत में दिया।

Advertisement

और उन्हें स्क्रीन पर सम्मान के साथ आमंत्रित किया।।देवेंदजी ने जय झूलेलाल कह सभी का अभिवादन किया।।कार्यक्रम का बेहद कुशलता से संचालन करते हुए विश्व सिंधी सेवा संगम के अंतर्राष्ट्रीय अध्यक्ष लायन डॉ राजू मनवानी ने देवेंद्रजी से प्रथम प्रश्न पूछा कि नागपुर में स्वयंसेवक से नगरसेवक से मुख्यमंत्री तक कि आपकी यात्रा के बारे में हमे अवगत करवाये ।।देवेंदजी ने अपनी इस लाजवाब राजनीतिक जीवन की यात्रा का विवरण विस्तृत में इस तरह वर्णन किया सभी दर्शक मंत्र मुग्ध हो गए।।उसके बाद राम मंदिर के भूमिपूजन , राम मंदिर निर्माण आंदोलन में उनकी भूमिका सहयोग, श्रीनगर में भारत का झंडा फहराने के बारे में ऐसी रोचक बातें बताई जिसे सुन सभी दर्शक हतप्रभ हो उठे।

उसके बाद देवेंद्रजी ने महाराष्ट्र में कोरोना की महामारी के बारे में विस्तृत जानकारी दी।।केंद सरकार द्वारा महाराष्ट्र में उपलब्ध करवाने वाली सभी सुविधाओं से अवगत करवाया।।मोदी सरकार द्वारा वर्तमान में नयी शिक्षा प्रणाली को उन्होंने बेहद सरहाना कर विस्तृत जानकारी दी।।और उन्होंने अंत मे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का गीत खुद गाकर सभी को मंत्रमुग्ध किया।।डॉ राजू मनवानी ने देवेंदजी को देश के सिंधी समाज द्वारा राम मंदिर के लिए चांदी की ईंटे देने का आग्रह कर उनके मार्गदर्शन के लिए निवेदन किया जिसे देवेंदजी ने तुरंत स्वीकार किया।

देवेंदजी ने सिंधी समुदाय की बेहद तारीफ कर उन्हें भारत का योद्धा माना।सिंधी समाज द्वारा देश मे की जा रही सेवाओ की बेहद सरहाना की उन्होंने आदरणीय लाल कृष्ण आडवाणी का भी जिक्र कर कहा कि सदैव उनसे उन्हें सीखने को मिला है।उन्होंने अधिवक्ता लाल जेठमलानी की भी सराहना की और अंत मे सिंधी समाज पर एक लाजवाब शेर पढ़ा।उनके 1 घंटे के इस कार्यक्रम में इतने सटीक जवाब और सिंधी समुदाय की बातचीत से पूरे विश्व के सिंधी उनके प्रशंसक बन गए।और विश्व सिंधी सेवा संगम का यह कार्यक्रम ऐतिहासिक यादगार बन गया।अंत मे देवेंदजी ने प्रताप मोटवानी का भी आभार माना ऐसे लाजवाब प्रोग्राम में आमंत्रित करने के लिए।।कार्यक्रम में आभार माना संस्थापक दादा गोपाल सजनानी ने उन्होंने देवेंदजी को कृष्ण भगवान की उपमा से अलंकृत किया।।पूर्व विधायक गुरमुख जी जगवानी ने देवेंदजी का शेरो शायरी से आभार माना।

देवेंद्रजी ने उनको सिंधी समाज के लिए शेर प्रस्तुत किया।।अंत मे गरिमामयी वातावरण में यह कार्यक्रम सम्पन हुआ।।प्रताप मोटवानी ने पूरे विश्व के सिंधी समाज से और सभी लोगों से आग्रह किया है जो भाई बहिन इस ऐतिहासिक प्रोग्राम को देखने से वंचित हो गए है।वह यू ट्यूब की यह लिंक ओपन कर पूरा प्रोग्राम देखें।

Advertisement

Advertisement
Advertisement
 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement