Published On : Tue, May 30th, 2017

श्री गुरु अरजनदेव गरीबों व दीन दुखियों के मसीहा – अधि. ममतानी


नागपुर:
जरीपटका स्थित श्री कलगीधर सत्संग मंडल द्वारा आयोजित गुरु अरजनदेव शहीदी दिवस निमित्त कार्यक्रम में अधि. माधवदास ममतानी ने उपस्थित हजारों श्रद्धालुओं को बताया कि गुरुजी ने अनेक सामाजिक कार्य किए व जरुरतमंद-दीन दुखियों व सभी के लिए ऐसे धार्मिक स्थल बनाए जहां जीवों को प्रभु सिमरन के साथ ही निःशुल्क भोजन व आवास की व्यवस्था भी हो। गोविंदवाल, तरनतारन, वडाली, करतारपुर, कीरतपुर व अमृतसर आदि नगर इस बात के प्रमाण हैं कि गुरु अरजनदेव गरीबों व दीन दुखियों के मसीहा थे। उन्होंने अपने जीवनकाल में अमृतसर में प्रसिद्ध हरिमंदर साहिब की स्थापना की, जिसे स्वर्णमंदिर के नाम से जाना जाता है। गुरुजी ने इस मंदिर की प्रथम इंर्ट लाहौर के प्रसिद्ध पीर मियांमीर से रखवाई जिससे सिद्ध होता है कि उन्हें जाति भेद था ही नहीं।

अपने जारी प्रवचन में अधि. ममतानी ने बताया कि गुरुजी ने अमृतसर नगरी बसायी व जरुरत मंदों को रोजगार हेतु दुकानें भी बनवाकर दीं। एक बार वहां के दुकानदारों ने गुरुजी के पास विनंती की कि महाराज आपने हम पर बड़ी कृपा की है कि यहां दुकानें बनवाकर दी हैं। परंतु पर्याप्त ग्राहक नहीं आने के कारण यहां ज्यादा व्यापार नहीं हो पाता फिर हम अपना गुजारा कैसे करें ? दयालू गुरुजी ने कहा तुम प्रतिदिन सबेरे दरबार आकर माथा टेककर यथाशक्ती श्रद्धा से कुछ भेटा रखकर फिर दुकान खोलो जिससे तुम्हें कभी कमी नहीं आएगी। ऐसा करने से तुम जल्दी ही धनवान बनकर सुखी रहोगे। गुरुजी का हुकुम मानकर दुकानदारों ने ऐसा ही किया जिससे उनका व्यापार बढ़ने व चलने लगा। गुरुजी ने दीन दुखियों जरुरतमंदों के लिए अनेक परोपकारी कार्य किए जैसे कुंए-तालाब खुदवाना, धर्मशालाएं बनवाना, लंगर चलाना, स्वयं रोगियों की सेवा की इत्यादि-इत्यादि।

कार्यक्रम का आरंभ दोपहर 2 बजे पांच श्री जपुजी साहिब के पाठ के साथ हुआ। इसके उपरांत पूरे विश्व व परिवार में सुख-शांति हेतु श्री गुरु अरजन देव द्वारा रचित श्री सुखमनी साहिब का पाठ उपस्थित श्रद्धालुजन व रागियों ने एक ही लय सुर-ताल में किया गया। तत्पश्चात उपस्थित भक्तजनों ने ‘वाहुगुरु अरजनदेव’, ‘धनगुरु अरजनदेव’ के गगनभेदी जयघोष से परिसर को गुंजायमान व आल्हादित किया। कार्यक्रम में आरंभ से लेकर अंत तक मसालेदार चना एवं मीठा जल श्रद्धालुओं को वितरित किया गया।


विधायक डॉ. मिलिंद माने, राष्ट्रीय सिख संगत विदर्भ प्रांत के अध्यक्ष श्री रजिंदरसिंघ भंगू, जयप्रकाश गुप्ता, नगरसेवक त्रय महेंद्र धनविजय, प्रमिला मथरानी व सुभाष मंगतानी, पूर्व नगरसेवक सुरेश जग्यासी, पंजू तोतवानी, दौलत कुगवानी, पुरुषोत्तम रंगलानी इत्यादि ने गुरु महाराज की आरती कर आशीर्वाद प्राप्त किया।

अधि. ममतानी ने बताया कि गुरुजी ने मानवता के लिए ज्येष्ठ सुदी 4 संवत 1663 को अपनी शहीदी दी जिसकी इस वर्ष समकक्ष अंग्रेजी तारीख 29 मई 2017 सोमवार है व मंडल द्वारा शहीदी दिवस कार्यक्रम के आयोजन का 47 वां वर्ष है। उपरोक्त कार्यक्रम में नगर के विभिन्न भागों से लगभग 10,000 श्रद्धालुओं ने शामिल होकर प्रभु गुणगान कर गुरु महाराज का आर्शिवाद प्राप्त किया।