Published On : Sat, Feb 23rd, 2019

शिवाजी महाराज ने हिंदवी स्वराज की स्थापना की, सभी धर्मों का किया आदर : डॉ. त्रिवेदी

नागपुर: शिवाजी महाराज ने हिंदवी स्वराज की स्थापना की थी. सबसे बड़े मुग़ल बादशाह औरंगजेब के खिलाफ भी वे खड़े हुए थे. शिवाजी महाराज ने कभी किसी पर अन्याय और किसी के भी धर्म का अनादर नहीं किया. यह बात भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता डॉ. सुधांशु त्रिवेदी ने कही. वे जिव्हाला फाउंडेशन की ओर से शिवाजी महाराज जयंती के अवसर पर ‘ छत्रपति शिवाजी महाराज और सर्वधर्म समभाव ‘ विषय पर आयोजित व्याख्यान में बोल रहे थे. यह आयोजन रेशमबाग के डॉ. हेडगेवार स्मारक समिति परिसर के महर्षि व्यास सभागृह में संपन्न हुआ.

उन्हें आगे कहा कि शिवाजी को प्रेरणा अपनी माता से मिली थी. महाराज राष्ट्रवाद के प्रतिक थे. इतिहासकारों ने उन्हें क्षेत्र में बांधने की कोशिश की जो काफी निंदनीय है. सिंध की संस्कृति हमारी संस्कृति है. उन्होंने इस दौरान पाकिस्तान के प्रधानमंत्री द्वारा हमले की बात की भी निंदा की.

इस कार्यक्रम में दैनिक भास्कर के समूह के संपादक प्रकाश दुबे ने कहा कि ‘ छत्रपति शिवाजी महाराज और सर्वधर्म समभाव ‘ बहुत ही अच्छा विषय चुना है. शिवाजी महाराज ने इसका पूरा भाव रखा है. उन्होंने अभी के हालात पर तंज कसते हुए कहा कि शिवाजी के काल में क्या कभी गाय को लेकर किसी हत्या हुई थी. दुबे ने कहा कि अफजलखान को मारने के लिए जो बाघ नाख़ून बनाया गया था वह एक मुसलमान ने बनाए थे.

इस दौरान दिप प्रज्लवन कर कार्यक्रम की शुरुआत की गई. इस कार्यक्रम में पूर्व सांसद अजय संचेती, विधानपरिषद सदस्य डॉ. रामदास आंबटकर, डॉ. परिणय फुके, सत्तापक्ष नेता संदीप जोशी, पूर्व महापौर प्रवीण दटके, भाजपा के आशीष वांदिले, मनपा परिवहन सभापति जितेंद्र कुकड़े, धर्मपाल मेश्राम समेत सैकड़ों की संख्या में लोग और जिव्हाला फाउंडेशन के सदस्य मौजूद थे.