Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
    | | Contact: 8407908145 |
    Published On : Sat, May 9th, 2015
    Vidarbha Today | By Nagpur Today Vidarbha Today

    अमरावती : किसानों को न्याय दिलवाने तत्पर रहे शिवसैनिक


    उध्दव ठाकरे ने दिए विडिओं कान्फरन्स से निर्देश

    9 Confarans
    अमरावती। शिवसेना प्रमुख उध्दव ठाकरे ने विडिओं कान्फरन्स से कहा कि सरकार की योजनाओं को जनता तक पहुंचाना शिवसेना का जिम्मेदारी है. केंद्र सरकार व्दारा किसानों के लिए पैकेज घोषित हुआ, मुआवजा भी वितरित हुआ, लेकिन महाराष्ट्र में किसानों के खाते में मुआवजे की राशि जमा होने की बजाय सरकारी तिजोरी में वापस चली गई है. सैंकडों किसानों के सात बारह के सूची में नाम नहीं थे, तो किसी के बैंक अकाऊंट नंबर नहीं थे. कहीं एक परिवार पध्दती से विवाद रहने से किसान मुआवजे से वंचित रहे. किसान मुआवजे की निधि वापस जाना गलत है इसलिए प्रत्येक शिवसैनिकों ने किसानों को न्याय देने के लिए तत्पर रहना चाहिए. शनिवार को पटवारी भवन में 4 जिलों से आये शिवसैनिकों से विडिओ कॉन्फरन्स के माध्यम से उध्दव बोल रहे थे.

    4 जिलों से किया संपर्क
    पटवारी भवन में अमरावती, यवतमाल, वाशिम और वर्धा जिले से सैकड़ों शिवसैनिक आये थे.  उन्होंने आगे कहा कि सरकार ने टेलीमेडीसीन योजना शुरु की. जिसके तहत मरिजों को लाभ मिल पा रहा है अथवा नहीं इसकी जानकारी भी शिवैसनिकों को लेनी चाहिए. महानगरपालिका ने शिक्षा का दर्ज सुधार ने ई लर्निंग प्रोजेक्ट शुरु किया है, उसका अमल हो पा रहा है अथवा सरकारी योजनाएं ठंड़े बस्ते में है इसकी जानकारी लेने के निर्देश दिये. इस समय पूर्व विधायक संजय बंड, बालासाहब हिंगणीकर, प्रशांत वानखडे, राजेंद्र तायडे, नाना वानखडे, किशोर माहोरे, प्रवीण हरमकर, सुधीर सूर्यवंशी, पंजाबराव तायवाडे, राहुल माटोडे, लक्ष्मी शर्मा, शोभा लोखंड़े, पुर्णिमा देशमुख, रेखा नागोलकर, पुष्पा तिवारी, प्रियंका वंजारी समेत शहर के सैकडों कार्यकर्ता शामिल हुए.

    पृथक विदर्भ नहीं
    सांसद तथा संपर्क नेता अरविंद सावंत ने कहा कि पृथक विदर्भ के लिए शिवसेना ने पहले ही स्पष्ट इंकार किया है. विदर्भ के विकास के लिए किसी भी जनप्रतिनिधि का हाथ पकड़ा नहीं है. अब तक कई नेता विदर्भ के हुए लेकिन विकास नहीं हुआ. केवल  विकास के नाम पर महाराष्ट्र के टूकडे करना उचित नहीं है. भाषाप्रांत पर विचार किया जाये तो मराठी भाषियों के लिए एक भी राज्य नहीं था. इसलिए गुजरात और महाराष्ट्र के टुकडे कर मराठी भाषिकों को महाराष्ट्र दिया. इसके भी टूकडे करेंगे तो इसे सेना का विरोध है. सरकारी योजनाओं के प्रति उन्होंने कहा कि ऐसा नहीं है कि शिवसेना का सरकार पर भरोसा नहीं है. लेकिन सरकारी योजनाएं जनता तक पहुंचाने तथा उसका अमल करने में भी सेना के कार्यकर्ताओं ने काम करना चाहिए, ऐसा मंशा शिवसेना प्रमुख उध्दव ठाकरे की है.

    सांसद रहे नदारद
    शिवसेना के इस विडीओं कॉन्फरन्स में जहां जिले के सभी पार्षद तथा कार्यकर्ता उपस्थित थे, वहंीं शिवसेना के सांसद आंनदराव अडसूल नदारद रहे. उल्लेखनीय है कि विदर्भ में शिवसेना का एक भी विधायक नहीं है जिसके चलते सांसद का उपस्थित रहकर कार्यकर्ताओं का उत्साह बढाना जरुरी था.


    Stay Updated : Download Our App
    Mo. 8407908145