Published On : Thu, Apr 29th, 2021

मूर्तिकार लूट मामला: मित्र ने ही बनाई थी लूट की योजना

सभी आरोपियों को हुडकेश्वर पुलिस ने पकड़ा

नागपुर. एक मूर्तिकार को ज़खमी कर उससे सवा तीन लाख के आभूषण लूटने के मामले में चौंका देने वाला तथ्य सामने आया है. लूटने की योजना उसके मित्र ने ही अपने साथियों के साथ मिलकर बनाई थी. हुडकेश्वर पुलिस ने इस मामले में 5 आरोपियों को गिरफ्तार किया है. आरोपियों में अमरनगर निवासी अक्षय रवी लवसरे (25), लाड़िकार ले आउट निवासी हर्षल दिलीपराव ढाले (24), तुपकर चौक सक्करदरा निवासी आदित्य गजानन भोंडवे (20) और सारंग बोरकर (20) का समावेश है. मामले में मुख्य आरोपी अक्षय है. उसके खिलाफ और भी कई मामले दर्ज हैं.

अयोध्यानगर निवासी संजय तिवारी पेशे से एक मूर्तिकार हैं. अक्षय तिवारी के घर के निकट ही रहता था. अतः वह उसे बहुत अच्छे से जनता था. उसने 24 अप्रैल को तिवारी को फोन कर 200 रुपए मांगे. तिवारी उसे पैसे देने के लिए म्हालगीनगर चौक में आया. अक्षय ने तिवारी की ॲक्टिवा खुद चलाकर उसे पीछे बिठाया. तिवारी थोड़ी दूरी पर एक खेत में पेशाब करने के लिए रुका. इस दौरान तीन युवकों ने तिवारी पर हमला किया. आरोपियों ने तिवारी के तीन लाख से अधिक मूल्य के आभूषण लूट लिए और उन्हें ज़खमी कर घटनास्थल से फरार हो गए. तिवारी की शिकायत के आधार पर हुडकेश्वर पुलिस ने लूट का मामला दर्ज किया था.


इस तरह सुलझा मामला
अक्षय वांछित अपराधी होने की वजह से वह पहले से ही पुलिस के शक के दायरे में था. आराेपियों ने ऐसे हमला किया जिससे अक्षय को भागने का मौक़ा मिल गया. पुलिस ने अक्षय से पूछताछ की और उसने शुरुआत में कहा कि वह आरोपियों के बारे में कुछ नहीं जानता है. लेकिन पुलिस ने बारीकी से पूछताछ की और अक्षय ने अपनी भूमिका के बारे में बताया. इसके बाद उसे अपने साथियों के साथ गिरफ्तार किया गया.

अक्षय ने सोचा था कि तिवारी डरकर मामला दर्ज नहीं करेगा. इसके चलते उसने उन्हें लूटने की योजना बनाई. आरोपियों के पास से आभूषण, वाहन, मोबाईल समेत 3.60 लाख का माल जब्त किया गया है. इस कार्रवाई में सहायक पुलिस निरीक्षक स्वप्निल भुजबल, मनोज नेवारे, प्रवीण गाणार, दीपक मोरे, शैलेश ठवरे, नृसिंह दमाहे, ललित तितरमारे, चंद्रशेखर कौरती, आशीष तितरमारे आदि पुलिसकर्मियों ने महत्त्वपूर्ण योगदान दिया.