Published On : Sat, Feb 14th, 2015

वरोरा : स्कूली खाने के मसाला पैकेट में पत्थर का चुरा


वरोरा (चंद्रपुर)।
शालेय पोषण आहार योजना अंतर्गत कक्षा 1 से 8 वी के छात्रों के लिए दोपहर का खाना मिलता है. खाना तैयार करने के लिए शासन की ओर से ठेकेदारी पध्दती से प्याज-लहसुन मसाले के पैकेट मिलते है. जहां मसाले के पैकेट में पत्थर का चुरा मिला. वरोरा तालुका के एक स्कूल के छात्र ने खाने में बारीक़ कंकड़ लग रहे है ऐसी शिकायत की. जाँच करने पर मसाले के पैकेट में मिलावट होने का पता चला. बच्चों के स्वास्थ के साथ खेलने से सभी संतप्त है.

शासन की ओर से अनुदानित निजी स्कूल और शासकीय स्कूल में 1 से 8 वी के छात्र शिक्षा ले रहे है. उनके छात्र-छात्राओं के लिए शालेय पोषण आहार योजना शुरू है. योजना अंतर्गत भोजन के बनाने के लिए चावल, दाल तथा तेल और तीखा प्याज-लहसुन मसाला भेजा जाता है. ठेकेदारों के माध्यम से ये पैकेट दिए जाते है. इन पैकटों में पत्थरों का चुरा पाया गया. एक निजी स्कूल में खिचड़ी पकाने वाली महिला ने मसाले को पानी में घोलकर देखा तब यह घटना सामने आई. ये चुरा बारीक़ रेत जैसे है, जिसका विपरीत परिणाम छात्रों पर होने की गुंजाईश दिख रही है.

स्कूल के मुख्याध्यापक ने तुरंत ठेकदार को इसकी जानकारी दी लेकिन उसने कोई कार्रवाई नही की. क्षेत्र के अनेक स्कूलों में इस तरह के पैकेटों में मिलावट होने की चर्चा है. इस मामले में शासन ने संबंधित विभाग की ओर ध्यान देने की जरूरत है.

Masala milawati

Representational Pic