Published On : Mon, Mar 9th, 2020

पानी बचाओ, तिलक होली का दिया संदेश

पुलक मंच परिवार ने किया जनजागरण

नागपुर : अखिल भारतीय पुलक जन चेतना मंच और राष्ट्रीय जैन महिला जागृति मंच शाखा भगवान महावीर वार्ड नागपुर द्वारा रविवार को पर्यावरण की रक्षा, पानी बचाओ के साथ तिलक होली का जनजागरण महल स्थित पं. बच्छराज व्यास चौक मे किया गया. भारत गौरव राष्ट्रसंत आचार्यश्री पुलकसागरजी गुरुदेव के प्रेरणा एवं निर्देश से देशभर की सभी 500 शाखाओं द्वारा सुखी होली, पर्यावरण की रक्षा, स्वास्थ स्वस्थ रखो, पानी बचाओ के साथ ही कोरोना वायरस जैसी भयंकर बीमारी विश्व मे फैल रही है इसलिये होली खेलने से बचे, चीनी रंग, चीनी गुलाल का संदेश देकर तिलक होली का जनजागरण किया गया. आचार्यश्री पुलकसागरजी गुरुदेव ने कहा है त्यौहारो को धूमधाम से मनाने के के साथ ही पर्व की सार्थकता और उसकी पावनता को सुरक्षित रखने मे निहित झलकती है.

गुरुदेव कहते है होली के उज्ज्वल माथे पर सुखे गुलाल का तिलक लगाकर इस वर्ष की मौलिक अस्मिता को सुरक्षित रखना है, इसकी महिमा वृद्धिंगत करना है. यदि हम हानिकारक रंगो को किसी के चेहरे पर मलते है तो गुरुदेव कहते है ऐसा लगता है हम सब भाईचारे, मित्रता और प्यार के पावन चेहरे पर कालिख पोत रहे है.

जनजागरण का शुभारंभ दक्षिण नागपुर के विधायक मोहन मते, पुलक मंच परिवार के राष्ट्रीय कार्याध्यक्ष मनोज बंड, डॉ. रिचा जैन के उपस्थिति मे हुआ. नागपुर शहर के विभिन्न क्षेत्रो मे 5000 हर्बल गुलाल की डिब्बीया एवं पत्रक वितरित किये गये. किचड, डामर, तारकोल, केमिकल्स मिले रंग, चीनी रंग, चीनी गुलाल की होली खेलना खतरनाक है. त्वचा को नुकसानदायक होता है. हजारो गैलन पानी व्यर्थ मे जाता है. देहातो मे पिने के लिये पानी नही मिलता, किसानो को खेत के लिये पानी नही मिलता, क्यो हम व्यर्थ मे पानी अपव्यय करे.

समारोह का संचालन रमेश उदेपुरकर ,प्रास्ताविक मनोज बंड ने किया. आभार नरेश मचाले ने माना.


इस अवसरपर कुलभूषण डहाले, सुरज जैन पेंढारी, प्रकाश उदापुरकर, शशिकांत बानाईत, शांतिनाथ भांगे, नितिन रोहणे, विजय कापसे, विनोद श्रावणे, अमोल भुसारी, अतुल महात्मे, राहुल महात्मे, प्रशांत आलसेट, दिलीप सावलकर, आशिष विंदाणे, जितेंद्र गडेकर, राजेन्द्र सोनटक्के, किशोर कहाते, प्रशांत कहाते, नीलेश विटालकर, संदीप पोहरे, किशोर जैन, रवींद्र पलसापुरे, प्रदीप तुपकर, रवींद्र मेंढे, छाया उदापुरकर, ज्योति भुसारी, स्वाति महात्मे, सुनंदा मचाले, वैजयंती कापसे आदि उपस्थित थे.