Published On : Mon, Sep 15th, 2014

देसाईगंज : संत निरंकारी चैरिटेबल फाउंडेशन द्वारा स्वास्थ्य जाँच शिविर का सफल आयोजन


संत निरंकारी चैरिटेबल फाउंडेशन द्वारा स्वास्थ्य जाँच शिविर का सफल आयोजन

Sant Nirankari Charitable Foundation successfully organized a health camp
देसाईगंज।
 वर्तमान में आम जन-जीवन की अस्त-व्यस्त जीवन शैली और अनियमित खान-पान की वजह से मधुमेह एवं हृदय रोग की बढ़ती तादाद को देखते संत निरंकारी चैरिटेबल फाउंडेशन (दिल्ली) ब्रांच-वारसा द्वारा स्वास्थ जांच शिविर का सफल आयोजन किया गया. जिसमे 112 पुरुष, 68 महिलाओं ने स्वास्थ जांच करवाकर लाभ लिया.

स्थानीय संत निरंकर सत्संग भवन में सुबह 9 बजे हृदय और मधुमेह विशेषज्ञ डॉ. पुरूषोत्तम अरोरा(निरंकारी) द्वारा रिबिन काटकर उद्घाटन किया गया. इस अवसर पर संत निरंकारी मंडल ब्रांच-वारसा के स्थानीय संयोजक आसारामजी निरंकारी, पमनदास साधवानी, राधाराम कुकरेजा, अशोकराव निरंकारी, हरीश निरंकारी,गोविंद साधवानी प्रमुख रूप से उपस्थित थे. राष्ट्रीय स्तर के अनेक गौरव पुरस्कार प्राप्त डॉ. पुरषोत्तम अरोरा हुबली(कर्नाटक) के निवासी है जो संत निरंकारी चैरिटेबल फाउंडेशन के तत्वावधान में देशभर में अनेकों स्वास्थ जांच शिविरों का संचालन कर रहे है.

निरंकारी बाबा हरदेवसिंहजी महाराज के आशीर्वाद एवं प्रेरणा से समाज कल्याण के इस महान कार्य में डॉ. पुरषोत्तमजी अरोरा के साथ उनके सहायक डॉ.महेश खोत (एम.डी.मेडीसीन) भी योगदान दे रहे है. इस शिविर में ईसीजी, ब्लड शुगर, युरिन शुगर टेस्ट के साथ आवश्यक दवाईयाँ निःशुल्क वितरित की गई. ब्रम्हपुरी, आरमोरी, वडसा परिसर के गांव से हृदय और मधुमेह से पीड़ित लोगों ने इस शिविर का लाभ लिया. खान-पान एवं दिनचर्या के विषय में मार्गदर्शन पाकर शिविरार्थी संतुष्ट नजर आ रहे थे. रक्तदान शिविर, फ्री डिस्पेंसरी की सेवा, सिलाई-कढ़ाई प्रशिक्षण केंद्र के अतिरिक्त अनेकों जनजागरण और समाज कल्याण के कार्यो की सहारना की जा रही है.

Sant Nirankari Charitable Foundation successfully organized a health camp
शिविर के सफलता हेतु विशेषज्ञों की टिम के साथ कोल्हापुर से भी श्यामलालजी लालवानी,हरीश पंजवानी एवं स्थानीय डॉ कमल परसवानी, आरध्या रवि मोटवानी ने अपना योगदान दिया. वडसा ग्रामीण रुग्णालय में कार्यरत तारकेश्वर कांबले एंव अर्चना हुसे का भी सहयोग प्राप्त हुआ.स्थानीय निरंकारी सेवादल के नौजवानों ने अपनी खाकी वर्दी मे शिविर के प्रबंध एवं व्यवस्था को बखुबी संभाला और शिविर को सफल बनाने में योगदान दिया. शिविर के पश्चात डॉ.पुषोत्तम अरोरा के सानिध्य में सत्संग का भी कार्यक्रम हुआ. अंत में स्थानीय संयोजक आसारामजी निरंकारी ने सभी का आभार व्यक्त किया.