Published On : Thu, Nov 10th, 2016

नोट बदलवाने सुबह से ही बैंक के बाहर लगी भारी भीड़

नागपुर: कालेधन पर सर्जिकल अटेक के तौर पर 500 और 1000 के नोट बंद किये जाने के फैसले के बाद गुरुवार को बैंक खुले। छुट्टी के बाद बैंक का खुलना यू तो सामान्य बात है पर आम लोगो के लिए गुरुवार का दिन खास था। बैंक रोजमर्रा की तरह अपने वक्त पर खुले पर आम लोग अपने पास के 500 और 1000 के नोट बदलवाने के लिए सुबह 6 बजे से बैंको के सामने लंबी कतारे लगाकर खड़े रहे। देश भर की तरह नागपुर में भी बैंको के बहार और अंदर लंबी -लंबी कतारे लगी थी। सुबह से बैंक के अंदर और बाहर नोट बदलवाने के लिए खड़े लोगो ने पुरानी नोटों के बदले नई नोट हासिल कर ली तब कही जाकर उन्होंने चैन की साँस ली।

गुरुवार को सभी बैंको का नजारा बिलकुल बदला हुआ था। एक साथ बैंक में इतनी भीड़ शायद ही कभी रहती होगी। जनता को सहूलियत देने के लिए बैंको ने अपने सभी कर्मचारियों को सिर्फ 500 और 1000 के नोट बदलने के काम में लगा रखा था। जिन्हें तत्काल पैसे की जरुरत थी वह नोट बदलवा रहे है जबकि ज्यादातर लोग अपने अकाउंट में ही सीधे पैसे जमा करा रहे है। बैंको ने इस प्रक्रिया ने बाकायदा अतिरिक्त काउंटर बनाए है जहाँ नोट बदलवाने के लिए आरबीआय द्वारा जारी किये गए खास फॉर्म को भरने का तरीका खुद बैंक के कर्मचारी आम लोगो को समझा रहे है। किसी सामान्य बैंकिंग दिवस की तुलना में गुरुवार को करीब 10 गुना ज्यादा पैसे डिपॉजिट हुए। 500 और हजार के नोट के प्रचलन के बाद बैंकिंग का आज पहला दिन था। जिस वजह से मनी एक्सचेंज की तेजी की वजह से दोपहर बाद ही कई बैंको में कैश ख़त्म हो गई। बैंको के पास 500 और हजार के नोट का अंबार लग चुका है।

बैंको की ही तरह सराफा बाजार में भी चहल पहल बढ़ गई है। शहर के सराफा बाजार के अलावा छोटे मोटे ज्वेलर्स के यहाँ लोग अपने पास रखी रकम के ऐवज में सोना खरीद रहे है। सरकार के इस फैसले के बाद सोने के भाव में चार हजार से ज्यादा का उछाल आ चुका है जिसके और बढ़ने की उम्मीद है। इतना ही नहीं 500 और 1000 रूपए के नोट का इस्तेमाल लोग मनी ट्रांसफर और डॉलर खरीदने भी कर रहे है।