Published On : Fri, Feb 7th, 2020

अल्प कर्मियों में विभागों को समाहित कर जिम्मेदारी हुई निश्चित

– नए आयुक्त तुकाराम मुंढे ने 6 फरवरी को आदेश जारी किया

नागपुर – दर माह सेवानिवृत्त हो रहे कर्मी व सीधी भर्ती बंद होने के साथ शहर की बढ़ती आबादी को गुणवत्ता पूर्ण मूलभूत सुविधा उपलब्ध करवाने के उद्देश्य से कल 6 फरवरी को नए मनपायुक्त तुकाराम मुंढे ने न सिर्फ एक-दूसरे से संबंधित विभागों को समाहित किया बल्कि विभाग प्रमुखों की जिम्मेदारियां भी निश्चित किया। इस नए बदलाव से अधिकारियों व कर्मियों की कमी विकास कार्यों को प्रभावित नहीं करेंगी।

नागपुर मनपा में सिर्फ 4 उपायुक्त पद मंजूर थे,राज्य सरकार ने 2 साल पूर्व 9 फरवरी 2018 को अतिरिक्त 3 उपायुक्त पदों को मंजूरी दी गई। इस तरह मनपा में कुल 7 उपायुक्त पद तो हो गए लेकिन आज वर्तमान में 2-3 उपायुक्त ही कार्यरत हैं। अतिरिक्त आयुक्त,मुख्य लेखा व वित्त अधिकारी पद भी वर्तमान में रिक्त है।इसके अलावा आधा दर्जन से अधिक आला अधिकारियों के पद रिक्त हैं।

मुंढे ने विभागों की संख्या कम कर 20 कर दिया।
सामान्य प्रशासन विभाग का प्रमुख उपायुक्त स्तर का होंगा। इनके अधीन आयुक्त के कामकाज,सामान्य प्रशासन विभाग,सुरक्षा विभाग,अस्थापना, अधिकारियों को निजी वाहन पूर्ति,भंडारण विभाग,अभिलेखा विभाग,विभागीय जांच विभाग,जनसंपर्क विभाग,जनगणना,विधि विभाग,लोकशाही दिन,आपली सरकार पोर्टल,पीजी पोर्टल संबंधी कामकाज की जिम्मेदारी निश्चित की गई।

समाज विकास विभाग का प्रमुख उपायुक्त होंगा। इसके अधीन दीनदयाल अंत्योदय योजना राष्ट्रीय शहरी उपजीविका, महिला व बाल कल्याण,दुर्बल घटक, अपंग कल्याण,गलिच्छ बस्ती सुधारना।

कर विभाग का प्रमुख उपायुक्त होंगे,इनके अधीन संपत्ति कर विभाग,एलबीटी,जीएसटी।

संपत्ति विभाग का प्रमुख उपायुक्त होंगा। इनके अधीन स्थावर, विज्ञापन,बाजार,लाइसेंस।

अतिक्रमण विभाग का प्रमुख भी उपायुक्त होंगा। इनके अधीन अतिक्रमण,अतिक्रमण निर्मूलन,अनाधिकृत निर्माणकार्य नियंत्रण व निर्मूलन। आरोग्य विभाग ( घनकचरा प्रबंधन) का प्रमुख उपायुक्त व संचालक( घनकचरा प्रबंधन ) होंगे। इनके अधीन घनकचरा संकलन व प्रबंधन,स्वच्छ भारत मिशन,शहर स्वच्छता विषयक कार्य,पशु वैधकीय सेवा।

उद्यान व वृक्ष प्राधिकरण का प्रमुख उपायुक्त होंगे। इनके अधीन उद्यान,वृक्ष प्राधिकरण, अमृत ग्रीन स्पेस योजना।

सचिवालय का प्रमुख निगम सचिव होंगे,इनके अधीन समिति विभाग रहेंगा।

शिक्षण विभाग का प्रमुख शिक्षणाधिकारी होंगे। इनके अधीन सर्व शैक्षणिक सेवा,प्राथमिक- माध्यमिक शाला,समग्र शिक्षा अभियान,मध्यान्ह भोजन योजना,क्रीड़ा व सांस्कृतिक विभाग,ग्रंथालय व अध्यापन विभाग।

नगर रचना विभाग का प्रमुख सहायक संचालक नगर रचना होंगे। इनके अधीन नगर रचना व शहर विकास योजना कार्य ।वित्त व लेखा विभाग का प्रमुख मुख्य लेखा व वित्त अधिकारी होंगे। लेखा परीक्षण विभाग का प्रमुख मुख्य लेखा परीक्षक होंगे।लोककर्म विभाग का प्रमुख अधीक्षक अभियंता होंगे।इनके अधीन लोककर्म विभाग अंतर्गत सभी कार्य,वाहन व यांत्रिकी विभाग,इमारती बांधकाम विभाग,हॉटमिक्स,एसआरए,प्रधानमंत्री आवास योजना।
सार्वजनिक स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग का प्रमुख अधीक्षक अभियंता होंगे। इनके अधीन जलापूर्ति,घनकचरा प्रबंधन प्रक्रिया,गंदा पानी नियोजन व प्रबंधन,अमृत योजना,सभी जलापूर्ति व गंदा पानी विषयक कार्य।

विद्युत विभाग का प्रमुख कार्यकारी अभियंता होंगे।विद्युत से संबंधित सभी कार्य। पर्यावरण विभाग का प्रमुख कार्यकारी अभियंता होंगे। पर्यावरण विषय से संबंधित सभी कार्य। शहर यातायात ( नियोजन व प्रबंधन ) विभाग का प्रमुख यातायात नियोजन अधिकारी होंगा व यातायात नियोजन व प्रबंधन की जिम्मेदारी संभालेंगे। अग्निशमन विभाग का प्रमुख मुख्य अग्निशमन अधिकारी होंगे। इनके अधीन अग्निशमन व आणिबाणी सेवा विभाग,आपत्ति व्यवस्थापन विभाग । स्वास्थ्य विभाग ( वैधकीय ) विभाग का प्रमुख वैधकीय स्वास्थ्य अधिकारी होंगे। इनके अधीन वैधकीय स्वास्थ्य सेवा,राष्ट्रीय नागरी स्वास्थ्य अभियान,सर्व राष्ट्रीय स्वास्थ्य कार्यक्रम। सूचना व तंत्रज्ञान विभाग का प्रमुख संचालक स्तर का होंगा। इनके अधीन ई- गवर्नेंस,नागरी सुविधा केंद्र की जिम्मेदारी होंगी।