Published On : Thu, Oct 3rd, 2019

क्वेटा काॅलोनी में विशुद्ध गुजराती परंपरा के बिखर रहे रंग

नागपुर: श्री नवरात्र महोत्सव मंडल, क्वेटा काॅलोनी, लकड़गंज में विशुद्ध गुजराती गरबा परंपरा के रंग बिखर रहे हैं। रास-गरबा के दौरान यहां बड़ी संख्या में युवक- युवतियों सहित परिवार के साथ श्रद्धालु आ रहे हैं। मंडल का यह 45 वां वर्ष है।

गुजराती गरबे की महक के साथ परिसर माता की भक्ति में लीन है। आज गरबे का आरंभ आरती के साथ हुआ। आरती हरीश सारडा, नीरज सेठी, किशन वर्मा, शैलेश वखारिया, विजय नाग्रेचा, डा. मनीष ढाबलिया, डा. ईशान अतकरी, डा. स्वाति ताजने, डा. अस्मिता पराते, डा.रवि बंग ने की।‘मां मुझे अपने आंचल में छुपा ले, गले से लगा ले…’,‘ हे लो म्हारो सांभलो ऋणीचेरा राजा अजमल कंवरा रानी…’ ‘माता छे तू जगत जननी छे तू….’, ‘सांझ पढ़ी साथिया में तो पुराव्या…’ विशुद्ध गुजराती गीतों से पूरा वातावरण गूंज रहा है।

कार्यक्रम की सफलतार्थ अध्यक्ष मुकेश कामवानी, महासचिव प्रफुल्ल गणात्रा, सचिव आकाश आचार्य, उपाध्यक्ष रामराज नाडार, अल्केश सेलानी, हरि सारडा, कोषाध्यक्ष भरत सोनी, सहसचिव गिरीश मेहता, राजू आचार्य, चंद्रकांत नथवानी, सहकोषाध्यक्ष विजय नाग्रेचा, आनंद कारिया, धनराज पुरोहित, किरीट वखारिया, आशीष नेब, महेश कंधारी, सुनील अग्रवाल, किशन वर्मा, रोहित सेजपाल, अनिल अग्रवाल, दीपक कामवानी, मनोज असावा, धर्मेंद्र आचार्य, किरीट कारिया, सुरेश पटेल, अजय कामदार, डा. आशीष नेब, किशोर गणात्रा, विपिन वखारिया, विनोद नाग्रेचा, जमनादास कानाबार, राजू टांक, स्थायी आमंत्रित सदस्य जीतेंद्र लाल, किरीट कक्कड़, परेश मेहता, विवेक शुक्ला, भरत पुरोहित, रवि नाडार, राजू माहेश्वरी, सुनील हजारे, हंसमुख रायचड़ा, आशीष पलांदुरकर, सतीश गेदुरानी, जयेश रामखियानी, जयेश सेजपाल, गौरव बतरा, राधेश्याम चचड़ा, विराग जोशी, मनीष मनसाता, सुनील चचड़ा, अनिल मुनियाल, हर्षद लाखानी, भोला पटेल, मनीष हुडिया, विनय व्यास, निर्मल गुरिया, नितिन पारेख, गोपी वर्मा, भरत नाग्रेचा, करन वर्मा, राजकिशोर शाहू, चेतन सावला, दिनेश चचड़ा, प्रमोद हुडिया, संतोष शाहू, सागर वर्मा, राजेश डेगे अथक प्रयास कर रहे हैं।