Published On : Sat, Oct 14th, 2017

आरोपों का लग जाना सही होने का प्रमाण नहीं – भैय्याजी जोशी

Bhaiyaji Joshi
नागपुर/भोपाल: भोपाल में चल रही संघ की अखिल भारतीय कार्यकारणी मंडल की बैठक के अंतिम दिन सरकार्यवाहक सुरेश (भैय्याजी जोशी) ने प्रेस वार्ता की। इस दौरान जब उनसे बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के बेटे पर लगे आरोपों का सवाल किया गया तो उन्होंने कहाँ कि किसी पर सिर्फ आरोप का लगाना बस उसे सही मान लेने का कारण नहीं हो सकता। आरोप लगे है तो न्यायालीन प्रक्रिया से जाँच होनी चाहिए। सिर्फ आरोप लगने से संघ उनकी ( अमित शाह ) की भूमिका तय करे ऐसा नहीं है। इस बैठक के दौरान जोशी से पहले सह सरकार्यवाहक दत्तात्रय होसबले से भी यही सवाल किया गया था जिस पर उनका भी उत्तर कुछ ऐसा ही था। गुजरात चुनाव से ठीक पहले बेटे को लेकर मीडिया रिपोर्ट में हुए ख़ुलासे से अमित शाह को विरोधी घेर जरूर रहे है लेकिन सरकार्यवाह के रुख से ऐसा लगता है की जब तक आरोप साबित नहीं होते तब तक संघ उनके साथ खड़ा ही है। उन्होंने यह भी साफ किया की संघ इस मामले में खुद कोई जाँच नहीं करेगा।

पत्रकारों से बात करते हुए सरकार्यवाहक ने बताया की बीते 3 वर्षो में अपेक्षा के अनुरूप संगठन का विस्तार हुआ है। भारत का 60 फीसदी समाज गाँव में बसता है। ग्रामीण भाग में संघ का कार्य शुरू है जिसमे और तेजी लायी जा रही है। वर्त्तमान दौर ने मौजूद कमियों को दूर करने के लिए प्राचीन भारत की व्यवस्था को अपनाना आवश्यक है। परिवार संयुक्त रहकर सामाजिक जागरण का केंद्र बने। इसलिए कुटुंब प्रबोधन-परिवार प्रबोधन का काम शुरू है। इस अभियान के तहत संघ देश के 20 लाख परिवारों तक पहुँचा है।

भैय्या जी जोशी ने प्रेसवार्ता में रोहिंग्या मुसलमान के मसले पर चर्चा करते हुए कहा कि, रोहिंग्या मुसलमान एक गंभीर मुद्दा है। सबसे बडा सवाल ये है कि आखिर उन्हें म्यांमार से निष्कासित क्यों किया गया। उन्होंने कहा कि कहीं किसी साजिश के तहत रोहिंग्या भारत में प्रवेश तो नहीं चाहते, इसलिए उनकी पृष्ठभूमि जाने बिना प्रवेश नहीं दिया जाना चाहिए। उन्होनें कहा कि भारत में कश्मीर और हैदराबाद में सबसे ज्यादा रोहिंग्या मुस्लमान रहते हैं। उन्होंने कहा कि देश में निश्चित संख्या से ज्यादा बाहरी लोगों को प्रवेश नहीं दिया जाना चाहिए।

कृषि उपज को उचित समर्थन मूल्य दिलाने सरकार उठाये ठोस कदम
भैय्याजी जोशी के मुताबिक किसानो की प्रमुख समस्या कृषि मूल्य को उचित समर्थन मूल्य मिलने की है। अगर ऐसा हो जाता है तो किसानो से जुडी कई समस्याओ से उन्हें मुक्त किया जा सकता है लिए जरुरी है की उचित समर्थन मूल्य किसानो को दिलाने के लिए सरकार ठोस कदम उठाए।

कोई भी फैसला एक पक्षीय न हो
पटाखों से होने वाले प्रदूषण को लेकर सुप्रीम कोर्ट द्वारा किये गए फैसले पर जोशी ने कहाँ की संघ पर्यवरण संतुलन को लेकर वर्षो से काम करते आया है। पर्यवारण के संरक्षण का काम होना चाहिए। ऐसा नहीं है की हर तरह के पटाखों के प्रदुषण होता है जिनसे होता है उस पर प्रतिबंध लगाना चाहिए। संतुलन का विचार जरूर हो लेकिन कोई भी फैसला एक पक्षीय नहीं होना चाहिए।

आरक्षण लेने वाले तय करे उन्हें कब तक इसका लाभ लेना है
आरक्षण को लेकर किये गए सवाल पर संघ की भूमिका को बताते हुए सरकार्यवाहक ने कहाँ की संघ आरक्षण का समर्थक है। डॉ बाबासाहब आंबेडकर ने आरक्षण की व्यवस्था की है यह तब तक चलती रहेगी जब तक इसका लाभ लेने वाले इसे लेना चाहेंगे। यह उन्हें तय करना है की वह इसे कब तक लेना चाहते है। लेकिन आरक्षण की वजह से कर्मचारी और अधिकारियो में भेदभाव न हो।

योगी हिंदुत्व का नहीं राष्ट्रीयता का चेहरा
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का कद इन दिनों राष्ट्रीय स्तर पर बढ़ रहा है। देश में भर में होने वाले चुनावों में उनका पार्टी एक प्रभावी चेहरे के रूप में इस्तेमाल कर रही है। योगी की छवि कट्टरहिंदुत्ववादी नेता के तौर पर है। क्या उनका कद बढ़ रहा है इस सवाल पर जोशी ने कहाँ की मुख्यमंत्री पद की अपनी जिम्मेदारी है। उन्हें हिंदुत्व का नहीं राष्ट्रीयता का चेहरा माना जाना चाहिए।