Published On : Thu, Jul 11th, 2019

वृक्षो का संवर्धन समय की जरूरत

नागपुर : अखिल भारतीय पुलक जन चेतना मंच शाखा महावीर वार्ड और नंदनवन, राष्ट्रीय जैन महिला जागृति मंच महावीर वार्ड नागपुर द्वारा संत शिरोमणी आचार्यश्री विद्यासागरजी महाराज जी के 52 वे दीक्षा दिवस पर ग्रेट नाग रोड स्थित महावीरनगर मैदान पर वृक्षारोपण का शुभारंभ किया गया. समारोह मे प्रमुख अतिथि पार्षद शीतल कामडे, जैन सेवा मंडल के पूर्व अध्यक्ष महेन्द्रकुमार कटारिया, महावीर गृहनिर्माण सहकारी सोसाइटी के अध्यक्ष डॉ. रवींद्र भुसारी, महावीरनगर सुधार समिति के अध्यक्ष अनिल गवारे, भाजपा नेता प्रशांत कामडे, सुप्रसिद्ध मोटिवेटर संजय नखाते, राष्ट्रीय जैन महिला जागृति मंच की राष्ट्रीय सह कार्याध्यक्षा प्रिया पोहरे, अखिल दिगंबर सैतवाल संस्था विदर्भ उपाध्यक्ष राजेन्द्र नखाते, अजितनाथ दिगंबर जैन मंदिर के अध्यक्ष कमल बज, ज्योति गुल्हाने, रोशनी सव्वालाखे, डॉ. नरेन्द्र भुसारी, महावीर वार्ड शाखा अध्यक्ष शरद मचाले, नंदनवन शाखा अध्यक्ष संदीप पोहरे, महिला मंच अध्यक्षा छाया उदापुरकर प्रमुखता से उपस्थित थे.

उपस्थित अतिथियों ने कहा वृक्ष हमे छाया देते है, वृक्षो की छाया मे रहने से हमारा स्वास्थ अच्छा रहता है, पर्यावरण का संतुलन रहता है. रोज सुबह नींद से उठने के बाद हरे भरे वृक्षो को देखना चाहिये. साथ ही वृक्षारोपण के साथ संवर्धन जरुरी है, राष्ट्रीय सांस्कृतिक मंत्री मनोज बंड ने प्रास्ताविक मे कहा आचार्यश्री विद्यासागरजी महाराजजी का आज 52 वा दीक्षा दिवस है इसलिये हमने आज से 152 वृक्ष लगाने का संकल्प किया है. समाज से आवाहन करते हुये कहा की अपने जन्मदिवस पर या किसी अपनो की याद मे आप वृक्षारोपण करिये जिस किसी को लगाने के लिये वृक्ष चाहिये हमारे महावीरनगर स्थित कार्यालय से प्राप्त कर सकते है.

इस अवसर पर उपस्थित परिसर के लोगो ने वृक्ष दत्तक लेकर उसका संवर्धन करने की हमी भरी, वृक्ष देवीदास सव्वालाखे परिवार ने नि: शुल्क उपलब्ध कर दिये है. पार्षद शीतल कामडी ने ट्री गार्ड उपलब्ध कर दिये है. महावीरनगर मैदान परिसर मे विभिन्न जातियों के 21 वृक्ष लगाये है. पुलक मंच नंदनवन शाखा वृक्षों का संवर्धन करेगी. आभार नंदनवन शाखा के महामंत्री नीरज पलसापुरे ने माना.

कार्यक्रम मे उमेश फुलंबरकर, प्रशांत सवाने, राजेन्द्र सोनटक्के, दिलीप सावलकर, प्रकाश मारवडकर, सुदर्शन भुसारी, नीलेश विटालकर, धीरज बंड, अभिजीत महात्मे, अतुल मानेकर, राकेश पंडित, अभिषेक बंड, कुलभुषण डहाले, अनंतराव शिवणकर, प्रकाश उदापुरकर, शरद अवथनकर, अतुल महात्मे, हुकुमचंद चवरे, शशिकांत बानाईत, विजय कापसे, राजेश कहाते, महेश सव्वालाखे,अमोल भुसारी, मंगेश सव्वालाखे, प्रवीण पोहरे, गिरीश विटालकर, आरती गिल्लरकर, कल्पना सावलकर, प्रतिभा नखाते, प्रतिमा सावरकर, हेमलता गडेकर, मनीषा नायगावकर, मनीषा नखाते, मंगला शिवणकर, सुनंदा मचाले, वैजयंती कापसे, मंगला मेंढे, पूजा मोदी, रुतीका मेशकर, मनीषा शहाकार आदि उपस्थित थे.