Published On : Thu, Sep 21st, 2017

इग्नू में एमबीए प्रवेश परीक्षा देंगे 11 कैदी


नागपुर
:राष्ट्रीय स्तर पर इग्नू ने “ट्रांसजेंडर समुदाय के लिए इग्नू कार्यक्रमों में मुफ्त शिक्षा” की घोषणा की है. नागपुर क्षेत्रीय केंद्र ने इस समुदाय तक पहुंचने और जानकारी प्रदान करने के लिए कई प्रयास किए हैं. ट्रांसजेंडर ग्रुप के सदस्यों, एनजीओ के साथ भी लगातार बैठके की हैं. इसमें से अधिकांश सदस्य अपनी आजीविका चलाने के लिए भीख मांगते हैं. इनको शिक्षा दिलाने का इग्नू ने प्रयास किया है. ट्रांसजेंडर माही रत्नाकर टेटे ने इग्नू के बैचलर प्रिपरेटरी प्रोग्राम में प्रवेश लिया है. ऐसी उम्मीद की जा रही है कि इसको देखकर दूसरे ट्रांसजेंडर भी शिक्षा लेने की प्रेरणा लेंगे.

इग्नू की ओर से वारांगनाओ के लिए भी शिक्षा का प्रयास किया गया है. इसको लेकर इग्नू ने सोनागाची, कोलकाता में वारांगनाओ के लिए एक विशेष अध्ययन केंद्र की स्थापना की थी. नागपुर में भी रेड क्रॉस सोसाइटी संस्था की ओर से गंगा जमुना में प्रयास किया गया. शिक्षक दिवस के अवसर पर रेड क्रॉस सोसाइटी में ” ज्ञान गंगा जागरूकता बैठक में सात वारांगनाओं ने (बीपीपी) कोर्स के लिए आवदेन दिया है.

कैदियों के लिए भी इग्नू प्रयास कर रहा है. इग्नू देश में कैदियों को भी मुफ्त में शिक्षा मुहैया करवाता है. इस बार 24 सितम्बर 2017 को आयोजित होनेवाली एमबीए प्रवेश परीक्षा ” ओपनमेट ” में 11 कैदी शामिल होने जा रहे हैं. इग्नू के अन्य कार्यक्रमों में हटकर, एमबीए प्रोग्राम में प्रवेश परीक्षा के माध्यम से प्रदान किया जाता है और अंग्रेजी माध्यम में ही पेशकश की जाती है. एमबीए की परीक्षा में शामिल इन कैदियों के लिए जेल परिसर में ही कोचिंग कक्षाएं आयोजित की जा रही हैं.


नागपुर क्षेत्रीय केंद्र के तहत इग्नू ने नागपुर और अमरावती के जेलों में कैदियों के लिए विशेष अध्ययन केंद्र खोले है. अब तक एक हजार से अधिक कैदियों ने इग्नू के विभिन्न कार्यक्रमों के लिए एक संचयी नामांकन कराए हैं. इनमें से कुछ कैदियों को उम्रकैद और मौत की सजा भी मिल चुकी है.