Published On : Wed, May 16th, 2018

राष्ट्रपति के जहाज ने की उड़ानों में देरी

मुंबई : मंगलवार को मुंबई एयरपोर्ट से उड़ान भरने वाली 20 से अधिक हवाई सेवाएं घंटे भर लेट हो गईं। जानकारी के अनुसार, रन-वे पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का वीआईपी जहाज होने की वजह से विमानों ने देरी से उड़ान भरी। इनमें से हवाई सेवाओं को वडोदरा एयरपोर्ट के लिए डायवर्ट करना पड़ा। हालांकि एयरपोर्ट प्रबंधन ने सेवाओं में देरी होने से इनकार किया है।

एयरपोर्ट सूत्रों के अनुसार, मंगलवार को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का वीआईपी विमान बिना किसी शेड्यूल के मुख्य रन-वे पर आ गया। इस वजह से सेवाएं प्रभावित हो गईं। मिली जानकारी के अनुसार, जेट एयरवेज की दिल्ली-मुंबई और रियाद-मुंबई को मुंबई एयरपोर्ट पर लैंडिंग की अनुमति नहीं मिल पाई। इस वजह से दोनों ही हवाई सेवाओं को वडोदरा एयरपोर्ट पर डायवर्ट कर दिया गया। इस संबंध में जेट एयरवेज से संपर्क करने की कोशिश की गई लेकिन संपर्क नहीं हो सका। हालांकि मुंबई एयरपोर्ट सूत्रों ने डायवर्जन के पीछे की वजह एक वीआईपी जहाज के रन-वे पर होने की बात बताई। इससे विमानों को लैंड करने की अनुमति नहीं मिल पाई। फ्लाइट राडार 24 के अनुसार, मंगलवार को मुंबई एयरपोर्ट पर हवाई सेवाओं की उड़ान में 49 मिनट की देरी हुई है, जबकि अराईवल्स में 28 मिनट की देरी हुई है।

सेवा प्रदर्शनी का किया उद्घाटन :

सेवा क्षेत्र और तकनीकी में भारत की हिस्सेदारी पांच ट्रिलियन डॉलर होगी। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने गोरेगांव एक्जिबिशन सेंटर में सेवा विषयक विश्व प्रदर्शनी के अवसर पर यह विश्वास व्यक्त किया। राष्ट्रपति की पत्नी सविता कोविंद, महाराष्ट्र के राज्यपाल चे. विद्यासागर राव, मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस, केंद्रीय उद्योग व वाणिज्य मंत्री सुरेश प्रभु, वाणिज्य विभाग की सचिव रीटा टिओटिया उपस्थित थीं। राष्ट्रीय सेवा क्षेत्र के 12 सर्वोत्कृष्ट सम्मान उनके हाथों वितरित किए गए।

मुंबई-लखनऊ फ्लाइट हुई लेट

मुंबई से 3.10 लखनऊ के लिए रवाना होने वाली गो एयर की हवाई सेवा ने भी देरी से उड़ान भरी। इसकी देरी के पीछे भी राष्ट्रपति का विमान था। जानकारी के अनुसार, विमान ने 1 घंटे देरी से उड़ान भरी। इस संबंध में गो-एयर से संपर्क नहीं हो सका।

बयान
मंगलवार को मुंबई एयरपोर्ट वीआईपी जहाजों की मूवमेंट अधिक थी। इसमें राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का विमान भी शामिल था। हालांकि विमानों में देरी राष्ट्रपति की वजह से नहीं हुई।