Published On : Fri, Aug 23rd, 2019

एक्वा लाइन शुरू करने की तैयारी, इंटरचेंज में 24 घंटे चल रहा युद्धस्तर पर कार्य

नागपूर: महानगर के व्यस्तम व्यापारिक क्षेत्र सिताबर्डी के प्रमुख चौराहे मुंजे चौक पर 24 घंटे महा- मेट्रो द्वारा कार्य किए जा रहे है. नागपुर मेट्रो रेल परियोजना का इंटरचेंज मेट्रो स्टेशन का निर्माण इसी चौराहे पर किया गया है . इंटरचेंज स्टेशन से फिलहाल खापरी मार्ग पर मेट्रो ट्रेन का संचालन किया जा रहा है. एमआयडीसी मार्ग की एक्वा मेट्रो लाइन पर यात्री सेवा शीघ्र प्रारंभ की जायेगी, हाल ही में 15 अगस्त को ट्रायल रन लिया गया.

इस लाइन को इंटरचेंज स्टेशन से संलग्न करने के विविध कार्य जोर शोर से शुरू है. 24 घंटे हो रहे कार्य में 700 से अधिक श्रमिक,कर्मचारी,अधिकारी और महा मेट्रो के विशेषज्ञों की टीम जुटी हुई है.जोखिम भरे कार्य रात 11 से सुबह 5 बजे तक किए जा रहे है, ताकी किसी भी प्रकार का व्यवधान ना हो. मुंजे चौक जैसे व्यस्त क्षेत्र में बिना ट्राफिक बंद किए कार्य करना बेहद चूनौतीपूर्ण है. 350 टन भार क्षमता की क्रेने काम में जुटी हुई है.

हाल ही में एक्वा लाइन और इंटरचेंज स्टेशन का सीएमआरएस द्वारा अवलोकन किया गया. एक्वा लाइन पर 20 मीटर लंबाई के स्टील गर्डर और 40 मीटर लंबाई वाले कांक्रीट बीम का कार्य पूर्ण किया गया. गर्डर का कार्य पूर्ण होते ही प्लेटफार्म का काम तेजी से किया जा रहा है. इसी तरह ट्रॅक और ओएचई का काम भी पूर्णता कि ओर अग्रेसर है. महा मेट्रो की पूर्व-पश्चिम एक्वा लाइन पर हायरग्रेड (350) का गर्डर लगाया गया है.

इंटरचेंज एक्वा लाइन प्लेटफार्म पर रुफ शीट के कार्य में करीब 100 श्रमिक और कुशल कर्मचारी कार्यरत है. टावर क्रेन के द्वारा यह कार्य किया जा रहा है. टावर क्रेन की भार क्षमता 90 टन और इसकी उंचाई 40 फीट की है. जमिनीसतह से एक्वा लाइन प्लेटफार्म की उंचाई 27 मीटर है. यात्रियों की सुविधा के लिए सीढ़ी के साथ ही एस्केलेटर का कार्य भी तेजी से किया जा रहा है.

रुफ शीट लगाने के साथ ही प्री-इंजीनियरिंग बिल्डींग(पीईबी) का काम लग-भग पूर्ण हो गया है. प्लेटफार्म पर ग्रेनाइट लगाने के काम में 50 श्रमिक और कुशल कारागिर जूटे हुए है.एक्वा लाइन पर माझी मेट्रो ट्रेन प्रारंभ करने संबंधी प्राथमिक कार्य जैसे ट्रॅक,सिग्नलिंग,टेलीकॉम,यात्री सुविधा संबंधी लिफ्ट लगाने का कार्य भी जारी है. सैकडो कर्मचारी,अधिकारी और तकनिकी विशेषज्ञों के अलावा महा मेट्रो के वरिष्ठ अधिकारी और तकनिकी विशेषज्ञों के अलावा महा मेट्रो के वरिष्ठ अधिकारी निर्धारित अवधि में लक्ष्य को हासिल करने के लिए पूरी क्षमता से दिन-रात जुटे हुए है.