Published On : Fri, Jul 26th, 2019

प्रतापगढ़ की घटना प्राकृतिक – जिला प्रशासन ने की शांति बनाए रखने की अपील

गोंदिया जिले की अर्जुनी मोरगांव तहसील अंतर्गत आने वाला प्राचीन व दर्शनीय स्थल प्रतापगढ़ तीर्थक्षेत्र यह दशकों से प्राकृतिक सौंदर्य और सर्वधर्म सद्भाव का प्रतिक रहा है।

आज इन ऊंची पहाड़ियों पर खुले परिसर में स्थापित भगवान शिव की मुर्ति जो प्लास्टर ऑफ पेरिस तथा उच्च गुणवत्ता के फायबर मटेरियल से निर्मित थी , यह मुर्ति प्रथम दृष्टि से जलने की जानकारी वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी, क्षेत्र के विधायक तथा पुलिस अधिकारियों तक पहुंची। मामले की जांच हेतु घटनास्थल पर विशेषज्ञों का दल और आला अधिकारियों की टीम मौजुद है।

इस समूचे घटनाक्रम पर अर्जुनी मोरगांव तहसीलदार की ओर से एक पत्रक जारी करते कहा गया है कि, गुरूवार 25 जुलाई के शाम इस क्षेत्र में घनघोर बारिश हुई थी। प्रथम दृष्टया एैसा प्रतीत होता है कि, आकाशीय बिजली गिरने की वजह से यह घटना घटित हुई होगी।

अंतिम निष्कर्ष विशेषज्ञों की जांच तथा प्रयोगशाला में भेजे गए नमूनों की जांच रिपोर्ट आने के बाद ही सामने आएगा। सभी भक्तों व नागरिकों से शांति तथा आपसी भाईचारा बनाए रखने की अपील जिला प्रशासन व पुलिस प्रशासन की ओर से की गई है।