Published On : Fri, Dec 14th, 2018

सत्त्ता में बदलाव हाेगा और जैसे को वैसा जवाब मिलेगा : प्रकाश आंबेडकर

वंचित बहुजन आघाड़ी के कार्यक्रम में सरकार पर जमकर बरसे आंबेडकर

Prakash Ambedkar

नागपुर: आरएसएस पर साजिशें रचने का आरोप लगाते हुए भारिप बहुजन महासंघ के नेता प्रकाश आंबेडकर ने कहा है कि वे आरएसएस के विरोध में सबूत जुटा रहे हैं. सरसंघचालक डॉ.मोहन भागवत को जेल में डालेंगे. आंबेडकर ने यह भी कहा कि सरकार की आेर से भी लूट की साजिशें रची जा रही है. सत्त्ता में बदलाव हाेगा और जैसे को वैसा जवाब मिलेगा. आरएसएस पर तल्ख शब्दों में उन्होंने कहा- खेल तुमने शुरु किया है, खत्म मैं करुंगा.

गुरुवार को कस्तूरचंद पार्क में वंचित बहुजन आघाड़ी का अर्थव्यवस्था अधिवेशन हुआ. एआईएमआईएम सहित अन्य संगठनों के संयुक्त प्रयास से आयोजित अधिवेशन में पूर्व विदर्भ से बड़ी संख्या में कार्यकर्ता शामिल हुए थे. एआईएमआईएम के विधायक इम्तियाज जलील व वारिश पठाण भी थे. इसी कार्यक्रम में आंबेडकर बोल रहे थे. प्रधानमंत्री मोदी की हत्या की साजिश रचने के आरोप में पुणे में पुलिस ने कुछ लोगों को गिरफ्तार किया था. साजिश के संबंध में पत्र का उल्लेख भी सरकार की ओर से किया गया था. उस मामले का जिक्र करते हुए आंबेडकर ने कहा कि प्रधानमंत्री की हत्या की साजिश का मामला तो आरएसएस ने गढ़ा था. उसमें उनका यानी प्रकाश आंबेडकर का नाम भी फंसाने का प्रयास किया गया. आरएसएस अपने विरोधियों को फंसाने का काम करता है. वह कानून को नहीं मानता है. संविधान को नहीं मानता है. संगठन का पंजीयन भी नहीं कराता है.

सामान्य व्यक्ति पर शस्त्र रखने के प्रकरण दर्ज होते हैं. सरसंघचालक शस्त्रपूजन करते हैं. उन पर कोई कार्रवाई नहीं की जाती है. हीरेन पांडया पर कार में गोली कैसे लगी,सवाल बना हुआ है. शहाबुद्दीन मामले में जो प्रमाण वायरल हो रहे हैं वे भी सवाल खड़े कर रहे हैं. मुंबई के बम विस्फोटों के अलावा हेमंत करकरे को गोली मारने के मामले में अलग अलग जानकारियां सामने आती रही है। सारे मामलों के सबूत जुटाए जा रहे हैं.

आंबेडकर ने यह भी कहा कि आरएसएस ने आरबीआई के गवर्नर पद पर इतिहास की डिग्रीवाले अधिकारी को जानबूझकर बिठाया है. देश के कानून का ध्यान नहीं रखा जा रहा है. हर क्षेत्र का निजीकरण किया जा रहा है. आरबीआई के गवर्नर को भारतीय मुद्रा का स्वामित्व दिया गया है. प्रधानमंत्री ने उर्जित पटेल से 3.50 लाख करोड़ सरकार के लिए मांगे थे. पटेल ने मांग नहीं मानते हुए गवर्नर पद छोड़ दिया. सरकार संपति लूटने लगती है. नक्सल प्रभाव के क्षेत्रों में खनिज संपदा की भरमार है. खनिज संपदा लूटने के लिए सरकार ने सलवा जुड़ूम के बहान आदिवासियों में टकराव की स्थिति बनाने का प्रयास किया था. सम्मेलन में अंजलि आंबेडकर,अशोक सोनोने, सागर डबरासे, रवि शेंडे, गुणवंत देवपारे,विजय मोरे सहित कई पदाधिकारी उपस्थित थे. धनगर, हलबा, पारधी, आदिवासी व अन्य कई समाज के प्रतिनिधियों ने भी सभा को संबोधित किया.

– प्रकाश आंबेडकर ने यह भी कहा कि कांग्रेस दोमुंहा भूमिका अपना रही है. एआईएमआइएम के बिना कांग्रेस के साथ गठबंधन नहीं किया जा सकता है। अशोक चव्हाण गठबंधन के संबंध में बात करते रहे हैं पर उनकी पार्टी के केंद्रीय स्तर के नेता बात नहीं कर रहे हैं.

-वारिस पठान ने कहा कि राज्य में तेलंगाना के समान तीसरा मोर्चा तैयार किया जा सकता है. मुस्लिमों को आरक्षण देने के मामले में कांग्रेस, राकांपा से लेकर भाजपा व शिवसेना तैयार ही नहीं है. ट्रिपल तलाक की बात करनेवालों को तीन राज्यों की जनता ने तलाक दे दिया. कांग्रेस नेता व पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने संघ मुख्यालय में आकर डॉ.हेडगेवार को अच्छा व्यक्ति कहा था. इससे कांग्रेस के नेताओं की वास्तविकता मालूम होती है. शिवसेना का भाजपा व मोदी विरोध दिखावा है। वह सत्ता नहीं छोड सकती है. ओवेसी के नाम से कुछ नेताओं की राजनीति चमकती है.

– बसपा की पूर्व नगरसेविका व गायिका किरण पाटणकर ने भारिप बहुजन महासंघ में प्रवेश लिया.
-प्रदेश महासचिव गुणवंत देवपारे ने कहा कि प्रकाश आंबेडकर ने नागपुर से लोकसभा चुनाव लड़ना चाहिए, आंबेडकर के साथ उनकी पत्नी व पुत्र भी सभा मंच पर थे.
– एआईएमआईएम के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी कार्यक्रम में नहीं पहुंच पाए. आंबेडकर ने कहा कि तबियत ठीक नहीं होने के कारण ओवैसी नहीं पहुंच पाए. आेवैसी के इंतजार में सभा लंबी खींचती गई. दोपहर 3 बजे से सभा आरंभ हुई थी. 4 बजे के दौरान प्रकाश आंबेडकर मंच पर पहुंच गए.रात आठ बजे तक भाषण चलता रहा.