Published On : Mon, Dec 4th, 2017

किसानों के लिए प्रदर्शन कर रहे यशवंत सिन्हा को पुलिस ने किया गिरफ्तार


नागपुर/अकोला: किसानों के लिए आंदोलन करने अकोला पहुँचे बीजेपी के वरिष्ठ नेता यशवंत सिन्हा को पुलिस ने गिरफ़्तार कर लिया। सिन्हा कसोधा (कपास-सोयाबीन -धान ) परिषद की तरफ से आयोजित आंदोलन में हिस्सा लेने पहुँचे थे। इस दौरान उनके साथ स्वाभिमानी शेतकरी संगठन के किसान नेता रविकांत तुपकर भी मौजूद थे। पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा के नेतृत्व में किसानों ने जिलाधिकारी कार्यालय पर मोर्चा निकाला और ठिय्या आंदोलन भी किया गया। आंदोलन के बाद किसानों के प्रतिनिधि दल ने जिलाधिकारी को अपनी माँगो का ज्ञापन भी सौपा। जिलाधिकारी आस्तिकुमार पाण्डेय खुद आंदोलनकारियों के पास पहुँचकर चर्चा करने का प्रयास किया लेकिन उनके द्वारा किसी भी तरह का ठोस आश्वासन न मिलता देख किसान प्रदर्शन स्थल पर डटे रहे। किसानों को प्रदर्शन से हटाने के लिए पुलिस ने सिन्हा,तुपकर के साथ अन्य किसानो को गिरफ्तार कर लिया।

अकोला में शेतकरी जागर मंच द्वारा रविवार को आयोजित परिषद में पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा ने आंदोलन की घोषणा की थी। स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशों को लागु करने,पूर्ण कर्जमाफी, सरकार द्वारा भवांतर योजना लागु किये जाने और उत्पादन का उचित समर्थन मूल्य जैसे मुद्दों को लेकर यह मोर्चा निकाला गया था। मोर्चे की शुरुवात गाँधी-जवाहर बाग़ में गांधीजी के पुतले पर माल्यार्पण करने के साथ हुई। मोर्चे में सिन्हा के साथ रविकांत तुपकर, जगदीश मुरमकर, प्रशांत गावंडे, मनोज पाटील, विजय देशमुख, दिलीप मोहोड जैसे किसान नेताओँ ने भाग लिया। मोर्चे में शामिल किसानों ने यशवंत सिन्हा की मौजूदगी में ही बीजेपी सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। खुद सिन्हा ने किसानों की माँगे पूरा न होने तक आंदोलन से कदम पीछे न हटाने की भूमिका रखी।

जिलाधिकारी कार्यालय के बाहर ठिय्या आंदोलन पर बैठे किसानों ने वार्ता के लिए प्रशाषन को उनके पास आने की माँग रही जिसे मानते हुए खुद जिलाधिकारी आंदोलनकारियों के पास पहुँचे। लेकिन कोई बात नहीं बनी अंततः पुलिस को किसानों को हटाने के लिए जबरन गिरफ़्तारी की कार्रवाई करनी पड़ी। अपनी ही सरकार के खिलाफ कई मुद्दों पर मोर्चा खोल चुके सिन्हा ने किसानों द्वारा सर्जिकल स्ट्राइक किये जाने की धमकी भी दे चुके है।