Published On : Sat, Dec 31st, 2016

पीएम नरेंद्र मोदी का राष्ट्र के नाम संबोधन, बोले- कुछ बात है कि हस्ती मिटती नहीं हमारी…

pm-modi
नई दिल्ली:
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 31 दिसंबर 2016 यानी आज नोटबंदी को लेकर राष्ट्र को संबोधित कर रहे हैं. पीएम मोदी ने इससे पहले 8 नवंबर को देश को संबोधित किया था, जब उन्होंने देश से भ्रष्टाचार और काले धन को खत्म करने के लिए 500 और 1,000 रुपये के पुराने नोट बंद किए जाने की घोषणा की थी. आज वह विमुद्रीकरण और काले धन पर बात कर बात की. उन्होंने कहा कि दीवाली के तुरंत बाद हमारा देश ऐतिहासिक शुद्धि यज्ञ का गवाह बना.

आइए जानें इस अवसर पर पीएम मोदी द्वारा कही गई बातों के मुख्य अंश :

  • अच्छाई के लिए होने वाले आंदोलनों में जनता और सरकार आमने सामने होते हैं, लेकिन इस आंदोलन में सरकार और जनता दोनों कंधे से कंधा मिलाकर लड़ाई लड़ रहे हैं.
  • ‘कुछ बात है कि हस्ती मिटती नहीं हमारी’, इसे देशवासियों ने जीकर दिखाया. भारतीयों ने जो कष्ट सहा, वह आने वाली पीढ़ियों के लिए उदाहरण बनेगा.
  • शास्त्री जी, लोहिया जी, जेपी जी अगर आज होते तो देशवासियों को आशीर्वाद देते.
  • ईमानदारों की रक्षा सरकार का जिम्मा है, काला धन समाज के लिए नासूर है. (पीएम के भाषण से जुड़ी हर बात पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)
  • यह सरकार सज्‍जनों की मित्र है और दुर्जनों को सज्‍जनता के रास्‍ते पर लौटाने के लिए उपयुक्‍त वातावरण तैयार करने के पक्ष में है.
  • आदतन बेइमान लोगों को भी अब तकनीक की ताकत के कारण काले कारोबार से निकलकर ईमानदारी से काम करना ही होगा.
  • मानव स्वभाव अच्छाइयों से भरा रहता है लेकिन समय के साथ जो बुराइयां उत्पन्न होती हैं, लोग उनसे मुक्त होने का प्रयास करते हैं.
  • नोटबंदी से हुई दिक्कतें उज्ज्वल भविष्य के लिए किया गया बलिदान हैं. गड़बड़ी करने वालों को हरगिज़ नहीं बख्शेंगे.
  • सबका साथ-सबका विकास. इसके चरितार्थ करने के लिए नव वर्ष की पूर्व संध्‍या पर देश के सवा सौ करोड़ लोगों के लिए सरकार कुछ नई योजनाएं ला रही हैं.
  • शहरी गरीब के लिए दो नई हाउसिंग योजनाओं की घोषणा की. पीएम आवास योजना के तहत शहरों में बनने वाले घरों पर नौ लाख के कर्ज पर ब्याज में 4% और 12 लाख पर 3% की छूट.
  • जिन किसानों ने रबी की बुवाई के लिए कर्ज लिया था, सरकार उनके 60 दिन का ब्‍याज वहन करेगी.
  • सरकार ने यह भी तय किया है कि अगले तीन महीने में तीन करोड़ किसान क्रेडिट कार्ड को रुपे कार्ड में बदला जाएगा.
  • बैंक गरीबों को ध्‍यान में रखकर काम करें. बैंक लोकहित में उचित निर्णय लें. भ्रष्‍टाचार और कालेधन के खिलाफ इस लड़ाई को हमें रूकने नहीं देना है.
  • ज्‍यादा से ज्‍यादा लोग डिजिटल पेमेंट से जुड़ रहे हैं. कल ही सरकार ने बाबा साहेब भीमराव के नाम पर BHIM नाम से ऐप लॉन्‍च किया.