Published On : Mon, Sep 26th, 2022
nagpurhindinews | By Nagpur Today Nagpur News

विदर्भ में आ सकती है पेट्रोकेमिकल रिफाइनरी परियोजना

– वेद के प्रतिनिधियों के साथ परियोजना की फिजिबिलिटी रिपोर्ट भी तैयार की जिसे जल्द ही पेट्रोलियम विभाग के सचिव को भी सौंपा जाएगा।

नागपुर -हालांकि केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने संकेत दिया है कि नानार में प्रस्तावित पेट्रोकेमिकल रिफाइनरी को तीन भागों में विभाजित किया जाएगा और नागपुर में विदर्भ इकॉनॉमिक डेव्हलपमेंट काउंसिल ( Vidarbha Economic Development Council) के पदाधिकारियों के अनुसार चंद्रपुर जिले में एक परियोजना स्थापित की जाएगी। MIDC या कोई ऐसी जगह इसके लिए सबसे उपयुक्त होती है। ऐसा दावा वेद के प्रतिनिधियों ने किया लेकिन इस बार हमने यह भी स्पष्ट किया कि हम चंद्रपुर के विरोधी नहीं हैं।

Advertisement

वेद द्वारा इस परियोजना को विदर्भ में लाने के लिए लगातार 10 वर्षों से प्रयास किया जा रहा है। शिवसेना रत्नागिरी में परियोजना का विरोध कर रही है। इसलिए इस परियोजना को विदर्भ में लाने के प्रयास किए जा रहे हैं। हरदीप सिंह पुरी के संकेत से विदर्भ के लिए उम्मीद जगी हैं। विदर्भ एकॉनिक डेवलपमेंट कौंसिल के प्रतिनिधि चंद्रपुर में पुरी से मिले। उन्हें इस प्रोजेक्ट का प्रेजेंटेशन दिखाया गया। इससे यह भी साबित हुआ कि विदर्भ में यह परियोजना कितनी सफलता पूर्वक शुरू की जा सकती है और विदर्भ के विकास के लिए यह कितनी महत्वपूर्ण है। उन्हें विदर्भ में जमीन, पानी और बिजली की उपलब्धता की जानकारी दी गई। पेट्रोलियम मंत्री ने खारे पानी के विलवणीकरण की लागत, हाल ही में तट पर प्राकृतिक खतरों में वृद्धि की ओर भी ध्यान आकर्षित किया।

Advertisement

वेद के पदाधिकारियों के अनुसार, नागपुर भौगोलिक दृष्टि से केंद्रीय स्थान, राष्ट्रीय सुरक्षा, रेल और हवाई अड्डे की सुविधाओं, गोसेखुर्द जल, समृद्धि राजमार्ग, पास के ड्राईपोर्ट और उपलब्ध जगह को देखते हुए परियोजना के लिए सबसे उपयुक्त है। वेद के प्रतिनिधियों के साथ परियोजना की फिजिबिलिटी रिपोर्ट भी तैयार की गई है। इसे जल्द ही पेट्रोलियम विभाग के सचिव को भी सौंपा जाएगा।

कुल प्रोजेक्ट 3 लाख करोड़ रुपये का है। इसे तीन भागों में बांटकर विदर्भ में एक लाख करोड़ का निवेश किया जाएगा। इससे कई छोटे-बड़े उद्योग आएंगे और रोजगार भी मिलेगा। वेद के प्रतिनिधियों ने कहा कि हम इस परियोजना को विदर्भ में लाने की पूरी कोशिश करने जा रहे हैं।

Advertisement

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

 

Advertisement
Advertisement
Advertisement