Published On : Mon, Sep 22nd, 2014

अमरावती : विदर्भ मुक्ति यात्रा में जमी भीड़

20140921_120813

अमरावती: पृथक विदर्भ की मांग को लेकर जनमंच संगठन की ओर से बुलढाणा जिले के सिंदखेड राजा से विदर्भ मुक्ति यात्रा का शुभारंभ किया गया. यह यात्रा शनिवार की रात बडनेरा मार्ग से शहर में दाखिल हुई. इस यात्रा के माध्यम से वर्तमान सरकार से विधानसभा चुनाव के मद्देनजर पृथक विदर्भ की मांग की गई.

विदर्भ मुक्ति यात्रा शनिवार रात 10 बजे शहर पहुंची रातभर मुकाम कर रविवार को सुबह राजापेठ, राजकमल मार्ग से इर्विन चौक पर स्थित बाबासाहब आंबेडकर के पुतले को माल्यार्पण कर यात्रा आगे रवाना हुई. पंचवटी चौक स्थित पंजाबराव देशमुख तथा गाडगेबाबा मंदिर में सभा बुलाई गई. जिसमें चंद्रकांत वानखड़े समेत एड.अनिल किलोर ने पृथक विदर्भ की मांग को लेकर जनता को जागरूक रहने का आवाहन किया. इस यात्रा में शहर से गाड़ियों का काफिला शामिल हुआ. जिसमें अतुल गायगोले, बबन बेलसरे, वसुसेन देशमुख, डा. अतुल यादगिरे, नितिन टाले, आशीष इंगले, चेतन पाटिल, रुझान मानकर, शुभम गावंडे, विजय किलोरकर समेत सैकड़ो लोगों का समावेश रहा.

जितने के लिए रहे तैयार : वानखड़े
विदर्भ मुक्ति यात्रा शहर से दोपहर 12 बजे गुरुकुंज मोझरी में दाखिल हुई. जहाँ यात्रा में शामिल लोगों ने राष्ट्रसंत तुकडोजी महाराज की समाधि के दर्शन लिए. इस समय एक सभा का आयोजन किया गया. जिसमें चंद्रकांत वानखड़े ने विदर्भ की जनता पर होनेवाले अन्याय को बंद कर पृथक विदर्भ की मांग करने का आवाहन किया. इस लड़ाई को जितने के लिए प्राण देने पड़े तो भी देने का इशारा विरोधकों को दिया गया. इस दौरान जनमंच के अध्यक्ष एड. अनिल किलोर, प्रा शरद पाटिल, रामभाऊ आख़रे, प्रकाश इटनकर, प्रकाश नागपुरे, गोविंद भंडारकर, प्रमोद पांडेम प्रभाकर खोंड़े, राहुल जड़े, संजय भरडे, रविंद्र भोसले, हसमुख पटेल, विनोद बोरकुटे उपस्थित थे.

20140921_120352