Published On : Sun, Aug 6th, 2017

एक्सपायरी दवाई के कारण मरीज की हुई मौत, परिजनों ने लगाया आरोप

File Pic


नागपुर:
एक निजी अस्पताल में मरीज की मौत होने के बाद परिजनों ने जमकर हंगामा मचाया। परिजनों ने इस मौत को लेकर अस्पताल के डॉक्टरों पर यह आरोप लगाया है कि मरीज को एक्सपायरी डेट की दवाई दिए जाने के कारण ही उसकी मौत हो गई. जिसके बाद अस्पताल के डॉक्टरों के खिलाफ कलमना पुलिस स्टेशन में मामला दर्ज किया गया है. मृतक का नाम भगवान सदाशिव वनवे है. मृतक रामटेक के कचुरवाही का रहनेवाला था.

जानकारी के अनुसार 25 जुलाई को मलेरिया और जॉन्डिस की शिकायत को लेकर मरीज भगवान को पारडी चौक स्थित तारंगन सर्जिकल हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था. इलाज के दौरान हॉस्पिटल के डॉक्टरों ने परिजनों को हॉस्पिटल के ही मेडीकल स्टोर्स से दवाई लाने के लिए कहा. जिसमें डायटोर नामक दवाई के साथ अन्य दवाईयां भी थी. लेकिन परिजनों का आरोप है कि मरीज को जो दवाई लिखकर दी गई थी, वह दवाई नहीं, बल्कि डायटोर नामक दवाई दी गई. जो की एक्सपायरी डेट की मियाद को पार कर चुकी थी. जिसके कारण मरीज की तबीयत और बिगड़ गई. परिजनों ने यह भी आरोप लगाया कि हॉस्पिटल की ओर से मरीज को आइसीयू में रखा गया था. जिसमें उन्हें डायलिसिस पर रखा गया था. डायलिसिस की नली लगाने के बाद खून बहने लगा. आइसीयू में कोई भी डॉक्टर मौजूद नहीं था. रिश्तेदार की नजर जब मरीज पर गई तो उन्होंने डॉक्टरों को बुलाया और उसके बाद मरीज का खून रोका गया. इस तरह की लापरवाही का आरोप भी मृतक के परिजनों ने लगाया है.

इस दौरान प्रहार के तहसील अध्यक्ष श्रीकांत बावनकुले ने बताया कि डॉक्टरों की लापरवाही के कारण मरीज की मौत हुई है. जो दवाई डॉक्टरों ने मंगाई थी वह दवाई मरीज को नहीं दी गई. बल्कि हॉस्पिटल में रखी एक्सपायरी डेटवाली दवाई मरीज को दी गई. जिसके कारण उस मरीज की मौत हुई है. उन्होंने बताया कि तारंगन हॉस्पिटल को लेकर रविवार को विधायक बच्चू कडु भी पत्र परिषद लेनेवाले हैं. जिसमें हॉस्पिटल की लापरवाही के बारे में खुलासा किया जाएगा.

Advertisement
Advertisement

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

 

Advertisement
Advertisement
Advertisement