Published On : Thu, Mar 5th, 2020

हिम्मत हैं तो काचीपुरा का अतिक्रमण हटाए तुकाराम मूंढ़े

आयुक्त तुकाराम मुंडे को खुली चुनौती : राजनीतिक वरदहस्त होने से अतिक्रमणकारी बढ़ते जा रहे

नागपुर: पंजाबराव कृषि विश्वविद्यालय (पीकेवी) की बजाजनगर काचीपुरा क्षेत्र में बड़ी उपजाऊ और बहुमूल्य जमीन हैं,इस जमीन पर विधानसभा अध्यक्ष के करीबी सह मुख्यमंत्री के परिवार से जुड़े स्थानीय कार्यकर्ता समेत ढाई दर्जन से अधिक धनिक सफेदपोशों ने बड़े-बड़े हिस्से पर अतिक्रमण कर रखा हैं.स्वयंभू पाक साफ़ पारदर्शी मनपायुक्त तुकाराम मूंढ़े उक्त अतिक्रमण को मुक्त करने की हिम्मत दिखाए।

Advertisement

इस सन्दर्भ में गत दिनों पश्चिम नागपुर के विधायक विकास ठाकरे ने मुंबई में शुरू बजट अधिवेशन में सवाल उठाया था कि सड़क किनारों पर रोजी-रोटी कमाने वालों पर कार्रवाई करने वाली मनपा प्रशासन पीकेवी की जगह पर अतिक्रमण करने वाले अमीरों के खिलाफ कार्रवाई करने का साहस दिखाए।

Advertisement

याद रहे कि पीकेवी की बजाज नगर स्थित काछीपुरा इलाके में सैकड़ों एकड़ उपजाऊ व बेशकीमती ज़मीन हैं,जिस पर विधानसभा अध्यक्ष के करीबी प्रशांत पवार का कार्यालय और लॉन हैं.इसी कार्यालय से अध्यक्ष नाना पटोले ने लोकसभा चुनाव संचलन किया था.इसके साथ ही मुख्यमंत्री के परिवार से जुड़े स्थानीय कार्यकर्ता मंगेश काशीकर का भी लॉन हैं.इसके अलावा हुंडई का शोरूम सह सर्विसिंग सेण्टर,विजय तालेवार,विष्णु मनोहर की विष्णु की रसोई जैसों का अतिक्रमण हैं.इसी जमीन के हिस्से पर फार्म हाउस किचन,’दिंनिंग बियॉन्ड आर्डिनरी’,श्री जगदीश सावजी,’बैठक’,श्री ऑटो लिंक,संतोष भोजनालय,’एचपी गैस’,मैक्यानो ऑटो,’ओएमजी’,वैभव लक्ष्मी,तड़का,’यूपी हैंडीक्राफ्ट’,’भारत गैस’,सुजल सावजी,’चटर-पटर’,बब्बू होटल,नावेद डेंटिंग-पेंटिंग वर्क,न्यू ताज ऑटोमोबाइल,नव दुर्गा कुशन वर्क्स,अतीक ऑटोमोबाइल,श्री गणेश गार्डन,राजेंद्र चाइनीज सेंटर,भारत ऑटो मोबाइल,म साई मोटर्स,जय जवान जय किसान संघटना के प्रशांत पवार का जनसम्पर्क कार्यालय,वासवी लॉन,स्क्लोर कान्वेंट,सरदार की रसोई,सह दर्जन भर पान ठेले व होटल संचालकों का कब्ज़ा हैं.

इस अतिक्रमण की जगह पर मूल कब्ज़ा धारियों काछी समाज के नागरिकों से बरगला कर सभी का उन्नत व्यवसाय शबाब पर हैं.

कितनी सरकार आई और गई लेकिन पंजाबराव कृषि विश्वविद्यालय (पीकेवी) को जमीन दिलवाने की हिम्मत किसी ने नहीं दिलवाई,अर्थात पूर्व स्थानीय विधायकों और मंत्रियों सह राज्य सरकार के वर्दहस्त से अतिक्रमण बढ़ता जा रहा.पिकवि भी पत्र व्यवहार करते करते थक गई,पीकेवी ने यह जगह एक विशेष प्रकल्प के लिए नागपुर सुधार प्रन्यास को देने की हामी भरी थी.

शहर के जागरूक नागरिकों का मनपा के फायरब्रांड पारदर्शी कार्यप्रणाली ले लिए चर्चित आयुक्त तुकाराम मूंढ़े आव्हान हैं कि आयुक्त को सही मायने में शहर को अतिक्रमण मुक्त करने की मंशा हैं तो इस धनाढ्य अतिक्रमणकारियों से सरकारी जमीन छुड़ाने की गंभीर पहल करें।
विडम्बना यह हैं कि सड़क किनारे रोजी-रोटी कमाने वालों का अतिक्रमण आयुक्त को साफ़-साफ़ नज़र आता हैं लेकिन शहर भर में धनाढ्य अतिक्रमणकारियों का अतिक्रमण मामले में वे ‘सूरदास’ हो जाते हैं.

अतिक्रमणकार्यो से बची जमीन पर आज भी काछी समुदाय के नागरिक खेती-किसानी कर रहे हैं.

उक्त मामलात की गंभीरता को देखते हुए पहली मर्तबा ऊर्जावान युवा कांग्रेसी विधायक विकास ठाकरे ने गत दिनों उक्त मामला को विधानसभा में रख प्रत्यक्ष तौर पर आयुक्त तुकाराम मूंढ़े की कार्यशैली को ललकारा हैं.अब देखना यह हैं कि आयुक्त मूंढ़े कोई इस मामले को कितनी गंभीरता से लेते हैं.अधिकारियों का विधायकों के मुद्दों को गंभीरता से न लेने पर गत दिनों स्वयं विधानसभा अध्यक्ष नाना पटोले बौखला गए थे तब उप मुख्यमंत्री अजित पवार और देवेंद्र फडणवीस ने प्रशासन द्वारा विधायकों के पत्रों/प्रश्नों को गंभीरता से लेने का भरोसा दिलवाया था.

Advertisement

Advertisement
Advertisement
 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement