Published On : Fri, Jul 9th, 2021

ट्रवल्स माफिया गुप्ता के खिलाफ श्रमिकों मे आक्रोश

– मामला दबाने अधिकारियों से सौदेबाजी

नागपुर: पश्चिमी कोयलांचल वेकोलि मे कार्यरत ट्रवल्स सप्लायर संदीप गुप्ता के खिलाफ वाहन चालक क्लीनर श्रमिकों मे असंतोष पनप उठा है। पिछले सन 2000- से श्रमिक वर्ग न्याय के लिए वेकोलि महाप्रबंधक से न्याय की गुहार लगा रहे है।परंतु वेकोलि प्रबंधन तथा केन्द्रीय श्रम अधिकारी और ईएसआईसी अधिकारियों की कार्यप्रणाली नैसर्गिक न्याय प्रिय तथा पारदर्शी नही होने के कारण श्रमिकों का शोषण बरकरार है। सबसे अधिक अन्याय असंगठित इन ठेका श्रमिकों के साथ मात्र झूठे आश्वासन और विश्वासघात का छलावा हो रहा है।

प्राप्त सबूतों के आधार पर गत 4 मार्च 2020 को वाहन आपूर्ति कर्ता ठेकेदार संदीप गुप्ता के वाहन श्रमिकों ने काम बन्द आंदोलन किया था। जिसका नेतृत्व चंद्रपुर जिला महाराष्ट्र नव निर्माण सेना के जिला अध्यक्ष राहुल बालमवार एवं उनकी टीम ने किया था।जिसमे सभी वाहन श्रमिकों को न्यूनतम वेतन कायदानुसार पगार उपलब्ध करवाने,श्रमिकों की भविष्य निर्वाह निधि उनके नाम से भुगतान करवाने,वाहनों का समय निर्धारण करने, अतिरिक्त कार्यों का ओवर टाईम पगार उपलब्ध करवाने,वाहन श्रमिकों को T.A.- D.A.उपलब्ध करवाने, सभी वाहन चालक व क्लीनर श्रमिकों को और उनके परिजनों को वैधकीय उपचार व औषध खर्च उपलब्ध करवाने,उनका स्वास्थ्य निदान व उपचार की CCTV छायांकन और वीडियो उपलब्ध करवाने, सभी वाहन श्रमिकों को प्रत्येक महिने की 10 तारीख को पगार उपलब्ध करवाने,वार्षिक बौनस उपलब्ध कराने तथा श्रमिकों का प्रलंबित बकाया वेतन भुगतान करवाने आदि मांगे शामिल है।बताते है कि वेकोलि के क्षेत्रिय प्रबंधक ने वाहन आपूर्ति का ठेका धारक ठेकेदार संदीप गुप्ता को तत्काल श्रमिकों की मांगोनुरूप वेतन तथा सुविधा उपलब्ध करवाने का मौखिक आदेश दिया।बताते हैं वेकोलि के लेबर वेल्फेयर अधिकारी की प्रमुखता में ट्रवल्स माफिया संदीप गुप्ता ने अपने वाहन श्रमिकों को तत्काल श्रमिकों की मांगे पूरी करवाने का सुनहरा आश्वासन दिया था


परंतु अभी तक श्रमिकों को न्युनतम वेतन ईएसआईसी नियमानुसार सुविधा उपलब्ध कराने के वजाय श्रमिकों के साथ बेईमानी किया जा रहा है।बताते हैं कि वेकोलि मे कार्यरत ई- टेंडर ठेका धारक ठेकेदार संदीप गुप्ता के पास करीबन 250 से 300 श्रमिक कार्यरत होने का अनुमान है।ईएसआईसी कार्यालय के मुताबिक ट्रवल्स एजेंसी प्रमुख संदीप गुप्ता ने सिर्फ श्री बालाजी ट्रवल्स के नाम पर ईएसआईसी का दो साल पूर्व सिर्फ पंजियन करवाया है।परंतु अभि तक उनके सभी वाहन श्रमिकों का ईएसआईसी रकम का भुगतान किया नही।

जानकार सूत्रों की माने तो विगत 20 सालों से ईएसआईसी चोरी,पीएफ चोरी,न्यूनतम वेतन चोरी,एरियस बौनस व सभी प्रकार के भत्तों की चोरी करके अपना घर भर रहा है। निलंबन तथा सी आर ख़राब के भय से वेकोलि प्रशासन के संबंधित अधिकारियों तथा अभियंता डरे हुए नजर आ रहे है।इस सबंध में चंद्रपुर के जिलाधिकारी,केन्द्रीय श्रम आयुक्त/ केन्द्रीय श्रम अधिकारी, चद्रपुर के जिला पुलिस अधीक्षक, भी भलीभांति जानते हैं कि वेकोलि मे कार्यरत टेंडर ठेका धारक ठेकेदार संदीप गुप्ता ने श्रमिकों के साथ सरासर अन्याय किया है?

गोपनीय सूत्रों के मुताबिक श्रमिकों की ईएसआईसी रकम भुगतान करने मे वह आनाकानी कर रहा है।ईएसआईसी तथा न्यूनतम वेतन चोरी के मामले मे लीपा-पोती करवाने के लिए संबंधित विभाग के तत्संबंधित अधिकारियों से सौदेबाजी करने का प्रयास कर रहा है। बताते है कि वेकोलि के क्षेत्रीय महा प्रबंधक,एरिया मैनेजर,बेल्फेयर अधिकारी तथा केन्द्रीय श्रम अधिकारी को यह ट्रवल्स माफिया संदीप गुप्ता हर सप्ताह आलीशान पार्टियां देकर मामले को लंबा खींचने या रफादफा करवाने प्रयत्नशील दिखाई दे रहा है। ट्रवल्स माफिया संदीप गुप्ता सुबह-सुबह से ही वेकोलि प्रशासन तथा श्रमिक अधिकारियों को परेशान करता है कि वेकोलि के क्षेत्रिय प्रबंधक ,अभियंता,इंचार्ज व श्रम निरीक्षक और श्रम अधिकारी पूरी तरह गुप्ता के समक्ष नतमस्तक है। वह कहता है कि सभी के सभी बिकाऊ है सिर्फ उन्हें उनकी कीमत चाहिए।