Published On : Mon, Dec 8th, 2014

रामटेक : पुराने मजदूरों का बकाया वेतन दें, फिर शुरू करें कारखाना

 

  • पत्र-परिषद में मजदूरों ने माँग करते हुए दी आंदोलन की चेतावनी
  • व्यंकटेश्वरा शक्कर कारखाना प्रबंधक ने किया था त्रिपक्षीय करार : उमाले

रामटेक (नागपुर)। बंद पड़े बाबदेव स्थित श्रीराम कारखाना को व्यंकटेश्वरा कम्पनी ने खरीद ली है. कम्पनी, मजदूर और ईख उत्पादक के बीच हुए त्रिपक्षीय करार के अनुसार कामगारों के पुराने बकाया वेतन की जवाबदारी नए व्यवस्थापकों ने दी थी. बकाया वेतन किश्तों में 3 हफ्तों में जून-14 तक दिया जाना था, परंतु कर्मचारियों को अब तक उनका बकाया वेतन नहीं मिला है. इस बीच उक्त व्यवस्थापकों द्वारा कारखाने को शुरू करने की दिशा में हलचलें देखी जा रही हैं. इसके मद्देनजर कर्मचारियों की ओर से उपविभागीय अधिकारियों को एक निवेदन दिया गया. उसमें बताया गया कि पुराना कर्मचारियों का पुराना बकाया (2 करोड़ 4 लाख) वेतन दें फिर कारखाना शुरू करें अन्यथा तीव्र आंदोलन किया जाएगा. कर्मचारियों का प्रतिनिधि लक्ष्मण उमाले ने यह जानकारी हाल ही में पत्र परिषद में दी.

उन्होंने आगे बताया कि मौदा तालुका के बाबदेव में 1986 में श्रीराम शक्कर कारखाना स्थापित की गई. कई सालों तक यह कारखाना सुचारू रूप से चली परंतु 2003 में बंद कर दिया गया. 2003-13 के बीच 10 साल यह कारखाना बंद रहा.  इस बीच सुरक्षा के बदइंतजामी के फलस्वरूप कारखाने की मशीनें व अन्य सामग्री चोरी चली गईं. आखिरकार सन् 2013 में कारखाना कोल्हापुर के महाडिक ग्रुप ने टेकओवर कर उक्त कारखाने का नाम व्यंकटेश्वरा पॉवर एण्ड शुगर यूनिट नामकरण कर दिया.

इससे पूर्व कारखाने में 293 कर्मचारी कार्यरत थे. जिसका पुराना बकाया वेतन तत्कालीन व्यवस्थापक ने नहीं दी थी. साथ ही अन्य मामलों के बकाया भी था. इसलिए व्यंकटेश्वरा पॉवर एण्ड शुगर यूनिट प्रारंभ करने का विरोध किया. इस पर समाधान 15 फरवरी 2014 को व्यंकटेश्वरा पॉवर प्रोजेक्ट लिमि यूनिट क्र. 2 की ओर से कार्यकारी संचालन संजय उर्फ बबलू गूजर, कर्मचारी प्रतिनिधि लक्ष्मण उमाले व दिनेश माने और ईख उत्पादक किसानों के प्रतिनिधि ईश्वर तायवाड़े व अन्य चार सहकार कामगार अधिकारी, प्रादेशिक सहसंचालक (शक्कर), अवसायक तथा लेखा परीक्षक, विधायक चंद्रशेखर बावनकुले, खुशालराव सिंगनजुड़े, तुलसीराम कालमेघ, टेकचंद सावरकर और शिवराज पडोले तहसीलदार मौदा के बीच त्रिपक्षीय करार हुआ. इसके अनुसार व्यंकटेश्वर पॉवर प्रोजेक्ट लिमि. यूनिट क्र. 2 बाबदेव तहसील मौदा, जि. नागपुर ने 15 नवम्बर 2014 तक कारखाना प्रारंभ करने वाला है. निर्धारित तारीख तक कारखाना शुरू न होने से ईख उत्पादक किसानों द्वारा लगायी गई फसल की कीमत देने की जवाबदारी कारखाने के व्यवस्थापक की होगी.

इसके लिए उन्हें 15 दिनों का समय दिया गया. पुराने कर्मचारियों का बकाया व उनकी माँगें सुनिश्चित किए जाने के बाद कारखाना 15 मार्च, 30 अप्रैल, 30 जून ऐसे तीन हफ्तों में बकाया दें. बकाया अदा करते वक्त  कर्मचारियों पर दर्ज मामले को वापस लेने की बात कही थी. इस दौरान कार्यक्रम संबंधी जो खबरें प्रकाशित हुईं उनमें कामगार प्रतिनिधि व रामटेक मौदा कृषि उत्पन्न बाजार समिति के सभापति लक्ष्मण उमाले उपस्थित रहने का जिक्र था, जिस पर उमाले ने नाराजगी व्यक्त की. पत्र परिषद में लक्ष्मण उमाले मनोहर कुथे, प्रभाकर कडू, ताराचंद वाघमारे, मानिक खंडाइत, प्रभाकर दरवई, नीलकंठ बावनकुले, शिशुपाल कुटे, गिरीधर खंडाते, अमरसिंग सहारे, दिनेश चकोले उपस्थित थे.

Money Bribe