Published On : Wed, Jun 23rd, 2021

अधिकारी-सफेदपोश दलाल मिलकर ऊर्जा मंत्रालय को लगा रहे चुना

– तीनों पक्ष प्रमुखों से शिकायत करेंगे जागरूक नागरिक

नागपुर– ऊर्जा मंत्रालय की निष्क्रियता से बिजली विभाग की तीनों कंपनियों को सफेदपोश दलाल और अधिकारी मिलकर लूट रहे। जिसके चलते बिजली कंपनियों का दिवाला निकल रहा है।हालांकि कालाबाजारी,दलाली, कमीशनखोरी,अनियमितता और भ्रष्टाचार के चलते महानिर्मिती बिजलीघरों का पहले से ही दिवाला निकल चुका है। अब बचा-खुचा महाराष्ट्र राज्य की अघाडी सरकार के ऊर्जामंत्रालय ने कमीशनखोरी अवैध उगाही के मामले मे हदें पार कर दी है।

बताते हैं कि ऊर्जा मंत्रालय के पाले हुए दलाल हरदवानी अवैध उगाही के मामले मे धूम मचा दी है। हरदवानी की तैनातगी से सर्वत्र असंतोष हैं । यदि समय रहते इसे नही रोका गया तो कंपनी व ठेकेदारों में बढ़ते तनाव के कारण यहां अनहोनी की घटना हो सकता है।जिसका असर हरद्वानी के आश्रयदाता को भुगतनी पड़ सकती हैं.

गोपनीय दौरा संदेह के घेरे में
कोराडी पावर प्लांट के अधिकारिक सूत्रों की माने तो सोमवार दिनांक 21 जुलाई की सुबह-सुबह 8 से 9 बजे के दरम्यान ऊर्जा मंत्री कोराडी 660 × 3 मेगावाट पावर प्लांट में अकेले पंहुचे और दोनों मुख्य अभियंता और उप मुख्य अभियंताओं की मौजूदगी में गोपनीय बैठक में गोपनीय चर्चाएं हूई और एक घन्टे के बाद ऊर्जा मंत्री वापस अपने गन्तव्य स्थल की ओर निकल गए। इस सबंध में एक बड़े अभियंता अधिकारी ने अपना नाम प्रकाशित न करने की शर्त पर बताया कि ये ऊर्जा मंत्री का दौरा व्यक्तिगत था।जिसमें उनकी चहेते फर्मों के पक्ष में निविदा ठेका पास करने,यहां कार्यरत कंपनियों और ठेकेदारों से कमीशन बतौर निधि उपलब्ध कराने,सांसद कृपालु तुमाने का पिछले सप्ताह अधिकारियों के साथ हूई चर्चा में शिकायत का ज़िक्र भी किया गया ,जिसमे आघाडी सरकार के अन्य पक्षों को दरकिनार करने के लिए अधिकारियों के साथ सलाह दी गई।

हरद्वानी खुद को ऊर्जामंत्री का विशेष सहायक दर्शाकर विभागों में धौंस दिखाता फिरता हैं.क्यूंकि मंत्री के तरफ से कोई विरोधाभास नहीं होता इसलिए इन दिनों मंत्रालय सह समक्ष विभागों,बिजलीघरों में इनकी तूती बोल रही.

हरद्वानी को यह अवसर उनके बड़े व्यक्तिगत त्याग की वजह से दिया गया,उनके त्याग से मंत्री को लाभ होने की जानकारी बिजलीघरों में चर्चित हैं.

हरदवानी के खिलाफ कार्यवाही नही होने पर उन्होंने कांग्रेस पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी मंडल तथा राष्ट्राध्यक्ष श्रीमती सोनिया गांधी,राहुल गाँधी और सौ प्रियंका गांधी वाड्रा के निवास के सामने धरना-प्रदर्शन करने की चेतावनी भी दी है। दक्ष नागरिकों द्वारा की गई शिकायतों की प्रतियां एनसीपी प्रमुख शरदचंद्र पवार, मुख्य मंत्री उद्धव ठाकरे और गृहमंत्री दिलीप वडसे पाटील को अग्रेषित किया गया है।