Published On : Thu, Jul 8th, 2021

अब जानवर भगाने के नाम पर लूट

– ऊर्जा मंत्रालय के दलाल नए-नए उद्योग ढूंढ कर उसका टेंडर निकला अपना उल्लू सीधा कर रहे

कोराडी : गत वर्षों से यहां पावर प्लांट परिसर में लावारिश हालत मे घूमते फिरते मवेशियों को भगाने के लिए ठेका निकाला गया था। हालांकि पावर प्लांट परिसर में चाक-चौबंद सुरक्षा पहरेदार तैनात रहने की वजह से वहां लावारिश जानवर तो क्या प्लांट मे कुत्ता भी पर नहीं मार सकता है ? परंतु क्या करेंगे ? उर्ज़ा मंत्रालय के कथित कमीशनखोर दलालों को रुपयों की थैली पंहुचाने हेतु अधिकारियों को नहीं चाहते हुए भी यह दुष्कर्म करना पड़ रहा है।

इतना ही नहीं यहां महानिर्मिती बिजली परिसरों की सुरक्षा व्यवस्था के नाम पर जरुरत से अधिक सुरक्षा पहरेदार सप्लाई के ई-टेंडर ठेका निकाला जा रहा है। जानकार सूत्रो का आरोप है कि निजी सुरक्षा कंपनी के अनेक पहरेदारों को शराब के नशे की लत है,जिसके कारण वे अपने कामों के साथ न्याय नहीं कर पा रहे। नतीजा सातिर चोर लुटेरों द्वारा बहुमूल्य सरकारी संपत्ति की अफरा-तफरी को आसानी से अंजाम दिया जा रहा है।उक्त गोरखधंधे में सभी सम्बंधित लिप्त होने की खबर हैं.


उल्लेखनीय यह हैं कि परिसर सुरक्षित होने के बावजूद आवारा मवेशियों का परिसर में प्रवेश सुरक्षा रक्षकों के कार्यशैली को इंगित कर रहा,ये सुरक्षा-रक्षक अपना मूल काम छोड़ अनैतिक उद्योग में लीन हैं.