Published On : Thu, Sep 9th, 2021

प्रस्तावित प्रतिबंध,लाॅकडाउन स्थगित-मनपा आयुक्त

Advertisement

एसजेवीबीएस‌एस का शिष्टमंडल मिला

नागपुर -सरकारजगाओ,वाणिज्य बचाओ संघर्ष समिति (एसजेवीबीएसएस) के संयोजक दीपेन अग्रवाल के नेतृत्व में प्रतिनिधिमंडल, स्थानीय,राज्य प्रशासन द्वारा लगाए गए अनुचित और लगातार लॉकडाउन प्रतिबंधों से अर्थव्यवस्था के सबसे अधिक प्रभावित क्षेत्रों का एक समूह, मनपा आयुक्त राधाकृष्णन बी से मिला। बार-बार लाॅकडाउन के कारण अस्तित्व के संकट का सामना कर रहे व्यावसायिक संस्थाओं और कर्मचारियों के सर्वोत्तम हित में समग्र निर्णय लेने के लिए प्रभावी ढंग से बिंदुवार अपना पक्ष रखा।

Advertisement
Advertisement

स्वास्थ्य के बुनियादी ढांचे की समीक्षा करें

संघर्ष समिति के संयोजक दीपेन अग्रवाल ने कहा कि बार-बार लाॅकडाउन के कारण खड़ी हो रही न‌ई चुनौतियों के प्रति आगाह करते हुए कहा कि इस पृष्ठभूमि में यह आश्चर्यजनक है कि प्रशासन सकारात्मक मामलों में मामूली वृद्धि के प्रति संवेदनशील है, लेकिन यह नागरिकों के दुख और स्थानीय प्रशासन, राज्य और केंद्र सरकारों द्वारा लगाए गए लॉकडाउन के कारण उन्हें होने वाली कठिनाई के प्रति संवेदनशील नहीं है। इस समय प्रतिबंध या लॉकडाउन लगाने के बजाय प्रशासन को यह सुनिश्चित करने के लिए निगरानी बढ़ानी चाहिए कि नागरिक कोविड के उचित व्यवहार का पालन करें और साथ ही दोनों लहरों के अनुभव के संबंध में स्वास्थ्य सेवा के बुनियादी ढांचे की समीक्षा करें।

आतिथ्य क्षेत्र को ओर राहत दें

संघर्ष समिति के सह-संयोजक दिलीप कामदार ने बताया कि राज्य सरकार के 4 जून 2021 के आदेश के अनुसार नागपुर को लेवल-1 के तहत क्वालिफाई करने के बाद भी आर्थिक गतिविधियां देरी से शुरू हुईं। बार और रेस्तरां को शुरू में शाम 4.00 बजे तक और उसके बाद रात 8 बजे तक और अगस्त 2021 से रात 11 बजे तक लेकिन 50% क्षमता के साथ संचालित करने की अनुमति दी गई थी। मंगल कार्यलय और लॉन मालिकों को सीमित अतिथियों के साथ केवल अगस्त 2021 के महीने में आंशिक संचालन फिर से शुरू करने की अनुमति दी गई थी। हालांकि, मनोरंजन उद्योग को आज तक प्रभावी ढंग से परिचालन फिर से शुरू करने की अनुमति नहीं है।

टेस्ट, ट्रेक, ट्रीट, टीकाकरण पर ध्यान ज़रुरी

संघर्ष समिति के समन्वयक मिकी अरोरा ने कहा कि पिछले तीन दिनों से लगातार दो अंकों के सकारात्मक मामले सामने आने के बाद भी नागपुर जिले की साप्ताहिक सकारात्मकता दर 0.22% है, जो राज्य सरकार द्वारा निर्धारित 5% के सावधानी चिह्न से काफी नीचे है। वर्तमान में 66 सक्रिय मामले के आंकड़े स्पष्ट रूप से बोलते हैं कि जिले में पर्याप्त ऑक्सीजन बेड उपलब्ध हैं। यह उल्लेख करना महत्वपूर्ण है कि 8 सितंबर 2021 को केवल 6 नए सकारात्मक मामले (एक अंक में) दर्ज किए गए थे। अरोरा ने आगे कहा कि केंद्र सरकार ने कोरोना वायरस को रोकने के लिए टेस्ट, ट्रैक, ट्रीट, टीकाकरण और कोविड उपयुक्त व्यवहार को अत्यावश्यक बताया है। देश में प्रवेश के स्थानों पर आव्रजन विभाग द्वारा अपनाए गए निगरानी मानकों की तर्ज पर राज्य और स्थानीय प्रशासन को आवश्यक कार्रवाई करनी चाहिए।

आर्थिक गतिविधियां पूरी तरह शुरु हों

प्रतिनिधिमंडल ने मनपा आयुक्त राधाकृष्णन से अनुरोध किया कि महामारी की स्थिति की साप्ताहिक समीक्षा के बाद काम के घंटों को कम करने या पूर्ण, आंशिक लॉकडाउन लगाने के बजाय आर्थिक गतिविधियों को और खोलने की सिफारिश करने की कृपा करें। 4 जून के आदेश में निर्धारित क्वालिफाइंग स्तर से अधिक प्रतिबंधों से मौजूदा स्थिति में मनमुटाव पैदा होगा।

मनपा आयुक्त की भीड़-भाड़ से बचने की सलाह

मनपा आयुक्त ने प्रतिनिधिमंडल को धैर्यपूर्वक सुनने के बाद कहा कि ओणम त्यौहार के बाद केरल में सकारात्मक मामलों में तेजी से वृद्धि का संज्ञान लेते हुए, प्रशासन ने एहतियात के तौर पर सक्रिय प्रतिबंधों का प्रस्ताव रखा। उन्होंने आगे कहा कि पालक मंत्री डॉ. नितिन राउत के निर्देशानुसार हितधारकों के साथ परामर्श के बाद, नागपुर जिले में प्रतिबंध,लॉकडाउन लागू करने के प्रस्ताव को हटा दिया गया है। बाद में यदि सकारात्मक मामले बढ़ते हैं तो प्रशासन को अंकुश लगाने जैसे कड़े निर्णय लेने के लिए मजबूर होना पड़ेगा। राधाकृष्णन ने व्यापारिक समुदाय और नागरिकों से अपील की है कि वे धार्मिक रूप से कोविड उचित व्यवहार का पालन करें और भीड़-भाड़ वाली जगहों पर जाने से बचें। उन्होंने भक्तों से गणेश उत्सव उत्सव को प्रचुर सावधानी से मनाने की भी अपील की। संबंधित गणेश मंडल को जिम्मेदारी लेनी चाहिए और यह सुनिश्चित करना चाहिए कि आगंतुक ठीक से फेस-मास्क पहनें, एसओपी का पालन करें और भीड़भाड़ से बचें।

दीपेन अग्रवाल ने प्रतिनिधिमंडल की ओर से मनपा आयुक्त को धैर्यपूर्वक सुनने और नागपुर में प्रस्तावित प्रतिबंध,लॉकडाउन को स्थगित रखने के लिए धन्यवाद दिया।

एसजेवीबीएस‌एस की भूमिका सराहनीय

आर्थिक गतिविधियों को फिर प्रतिबंधित होने से बचाने में सरकार जगाओ, वाणिज्य बचाओ की भूमिका की व्यापार जगत में सर्वत्र सराहना हो रही है। विदित रहे विगत लाॅकडाउन में प्रतिबंधों से प्रभावित अनेक सेक्टर्स विशेषकर आतिथ्य, कोचिंग आदि को राहत दिलाने में एसजेवीबीएस‌एस ने अत्यंत महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी और हालिया प्रतिबंधों की सुगबुगाहट को भी इस संगठन ने हाथों-हाथ लिया और उसी दिन से एक योजनाबद्ध मुहिम छेड़ दी।इसी के परिणामस्वरूप लाॅकडाउन से व्यापार जगत को फिलहाल तो राहत की सांस मिलेगी।लाॅकडाउन की खबरों से बाजारों के साथ साथ नागरिकों में भी एक नकारात्मकता का सा माहौल बनने लगा था और हर कोई फिर पुराने हालातों की पुनरावृत्ति से सहमा हुआ था। अनिश्चितता के माहौल से अब एक फौरी राहत जरुर मिलेगी लेकिन अब शहर के हर नागरिक की जिम्मेदारी बढ गई है कि लाॅकडाउन से बचने के लिए उसे कोरोना एप्रोप्रिएट बिहेवियर का और साथ ही सरकार, प्रशासन के सभी दिशा-निर्देशों का सख्ती से पालन करना होगा।

Advertisement

Advertisement
Advertisement
 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement