| |
Published On : Fri, Dec 7th, 2018

आज कटौती नहीं,जरुरत पड़ी तो सबकी सहमति से लेंगे निर्णय

 
 

नागपुर : मनपा में सत्तापक्ष नेता संदीप जोशी ने कहा कि जलापूर्ति में आज कटौती का कोई मामला नहीं हैं,जब कभी जरुरत महसूस होंगी,तब सभागृह की मंजूरी लेकर की जाएंगी।अगले ३ माह बाद संभावित जलापूर्ति में कोई अड़चन न आये,इसलिए मुख्यमंत्री के माध्यम से प्रयास जारी हैं.
वे आज मनपा की पानी विषय पर आयोजित विशेष सभा में उक्त जानकारी दी,जिसका महापौर ने समर्थन किया।

जोशी के अनुसार विपक्ष ने आरोप लगाया कि एनईसीएल ने ओसीडब्लू का ६१ करोड़ का जुर्माना माफ़ कर दिया।वर्त्तमान में ऐसा कुछ भी नहीं हुआ हैं.मनपा में सत्तापक्ष का पूर्ण बहुमत होने के बाद भी जान विरोधी निर्णय नहीं लिया जाएगा।ओसीडब्लू का प्रशासन/एनईसीएल को कहना हैं कि जो पैसा मिला ही नहीं फिर उस पर जुर्माना और कटौती कैसा ?

जब कभी जुर्माना माफ़ करने का विषय आएगा,यह विषय स्थाई समिति से होता हुआ आमसभा में आएगा।

मनपा सत्तापक्ष व प्रशासन मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के माध्यम से चौराई डैम से डैम में जमा कुल पानी का २५% पानी प्राप्त करने की कोशिश कर रहा हैं.जल्द ही इस संबंध में सकारात्मक निर्णय हो जाएगा।

कल पुणे के पालकमंत्री गिरीश बापट ने पुणे में एक दिन आड़ जलापूर्ति का निर्देश दिया हैं,ऐसी हालात नागपुर शहर में नहीं हैं और न होंगी।रोजाना कमोबेश सभी को पानी मिल रही हैं.आगामी ३१ जनवरी तक नागपुर मनपा को पानी की कटौती का कोई इरादा नहीं है.

मोमिनपुरा परिसर के नगरसेवकों ने अपने परिसर में दूषित जलापूर्ति का मुद्दा गर्म किया।इस मामले पर जोशी ने बताया कि मध्य नागपुर में दूषित पानी का मसला काफी पुराना हैं.यहाँ पुराने जीर्ण पाइप लाइन बदलने का काम जारी हैं.सतरंजीपुरा जोन परिसर में सम्पूर्ण नागपुर को पूर्ति किया जाने वाला पानी में से १०६ एमएलडी पानी रोजाना दी जाती हैं.

जबकि २४ बाय ७ जलापूर्ति योजना का पायलट प्रोजेक्ट धरमपेठ ज़ोन था,वहां मात्र रोजाना ६० एमएलडी जलापूर्ति की जाती हैं.सतरंजीपुरा ज़ोन में कुल जलापूर्ति के बनस्पत १०% लाभार्थी ही बिल भरते हैं.इसे बढ़ाने के लिए कोई सामने नहीं आ रहा.इस जोन में मुख्य जलवाहिनी पर सीधे टैपिंग की गई हैं,असल में इस जोन में २४ बाय ७ जलापूर्ति का लाभ उठाया जा रहा हैं.

अगले १५ दिनों में उक्त सभी टैपिंग पर कार्रवाई की जाएंगी,इसलिए इस ज़ोन के नगरसेवकों में बौखलाहट हैं.जोशी ने आगे कहा कि ओसीडब्लू के कामकाज से सभी वाकिफ हैं,इन्होंने खुद के खर्च से ७५० किलोमीटर जलवाहिनी बदली हैं.इसलिए जानकार-अभ्यासु नगरसेवक वर्ग ओसीडब्लू पर उंगलिया उठाने के बजाय एनईसीएल को टारगेट किये।

जोशी ने महापौर के मार्फ़त ओसीडब्लू को निर्देश दिया कि प्रबंधन ओसीडब्लू के गैरजिम्मेदार अधिकारी जो नगरसेवकों को नज़रअंदाज करते हैं,उन पर कार्रवाई करें।बारंबार अधिकारी न बदले,क्यूंकि नए अधिकारी को कार्यक्षेत्र समझने में वक़्त जाया जाता हैं.

जोशी ने यह भी बताया कि उल्ट ओसीडब्लू का कहना पड़ा कि बारंबार न बदलने से आर्थिक व्यवहार की शिकायतें आणि शुरू हो जाती हैं,इसलिए जिनकी शिकायतें आती हैं,उन्हें ही बदला जाता हैं.और अंत में कहा कि मनपा ज़ोन में तैनात ओसीडब्लू डेलीगेट से काम लेने मामले में एनईसीएल सख्ती बरतें।

उल्लेखनीय यह हैं कि आज की विशेष सभा तय समय से ४० मिनट देरी से शुरू हुई.मनपायुक्त अभिजीत बांगर का पहला दिवस था,उन्होंने महापौर के आदेश के बाद सभागृह में अपना परिचय दिया।नगरसेवकों के सवालात पर पिछले दिनों २ दिन जलापूर्ति खंडित होने की वजह और यथावत रोजाना जलापूर्ति की जाने की जानकारी दी.प्रफ्फुल गुरधे पाटिल,प्रवीण दटके के मध्य शाब्दिक झड़प हुई.नितिन साठवणे ने पुरानी नेटवर्क बदलते वक़्त ५०-१०० किलो के पीतल के वॉल संबंधी संगीन मामला उठाया और प्रशासन से खुलासे की मांग की.

इस विशेष सभा में हरीश ग्वालवंशी,धर्मपाल मेश्राम,नितिन साठवणे,मनोज सांगोले,यशश्री नंदनवार,वैशाली नारनवरे,दर्शनी धवड,कमलेश चौधरी,किशोर वानखेड़े,किशोर जिचकर,आयेशा उइके,मोहम्मद जमाल,जुल्फेकार भुट्टो,दिनेश यादव,भगवन मेंढे,हर्षला साबले,किशोर कुमेरिया,प्रमोद चिखले,वंदना चांदेकर,रमेश पुणेकर,सतीश होले,प्रफुल्ल गुर्दे पाटिल,भावना लोणारे,आभा पांडे,प्रियंका भिवगड़े,नरेंद्र वाल्दे,जीशान मुमताज,रश्मि धुर्वे,संदीप सहारे,इब्राहिम टेलर,प्रदीप पोहाने,प्रगति पाटिल,दिव्या धुरडे आदि ने भाग लिया।

Stay Updated : Download Our App