Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
    | | Contact: 8407908145 |
    Published On : Wed, Aug 29th, 2018

    जगताप जैसों को ‘डिसमिस’ करों : गडकरी

    Nitin Gadkari

    नागपुर: स्कैनिया द्वारा नागपुर शहर से ग्रीन बस बंद किये जाने के बाद दिल्ली में केंद्रीय भूतल परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने अहम् बैठक ली.बैठक में गडकरी ने मनपा ट्रांसपोर्ट मैनेजर पर झल्लाते हुए कहा कि विदेश कंपनी को सहयोग करने के बजाय उन्हें परेशान किया जाता हैं.इसलिए स्कैनिया ने नागपुर में काम बंद किया।इससे देश का नाम ख़राब हो रहा हैं.उपस्थित मनपा अधिकारी और पूर्व मनपा अधिकारियों से जगताप को ‘डिसमिस’ करने का सुझाव दिया।

    गडकरी ने आगे कहा कि स्कैनिया की ‘जीएसटी’ सम्बन्धी समस्या सुलझाने में एक वर्ष लग गए,जब हमने फटकार लगाई तब मनपा परिवहन विभाग सक्रीय हुआ.इस कदर फटकार के बावजूद जगताप की कार्यशैली में कोई सुधार नहीं देखा गया,यह जरूर अनुभव किया जा रहा अब कोई भी काम करते वक़्त मनपायुक्त का आदेश का आधार लिया जा रहा।

    आयुक्त के कहने पर किया रूट बंद
    जगताप ने सभापति बंटी कुकड़े को जानकारी दी कि ४० रेड बस बंद करने का निर्देश मनपायुक्त ने दिया।क्यूंकि बंद किये गए मार्गो में यात्री भी कम और कमाई भी अल्प हो रही थी।

    इस तरह आज की सूरत में ३८५ में से ३२० बसें दौड़ रही हैं। ४० रेड बसें प्रशासन ने बंद की तो स्कैनिया ने २५ ग्रीन बसें बंद की.इन ६५ बसों के यात्रियों को नाना प्रकार के दिक्कतों को सहन कर अपने रोजमर्रा के गंतव्य स्थल तक आवाजाही करनी पड़ रही हैं।
    जबकि जिस मार्गो पर कमाई और यात्री ज्यादा मिल रही,वैसे मार्गो पर बसों की संख्या बढ़ानी समय की मांग हैं। बसों के कटौती (curtailment) एक प्रकार से करार का उल्लंघन हैं।

    उल्लेखनीय यह हैं कि आज सुबह से नागपुर टुडे की टीम ने नागपुर से बुटीबोरी,नागपुर से हिंगणा,नागपुर से कलमेश्वर,नागपुर से पारडी,नागपुर से खापड़खेड़ा,नागपुर से डिफेंस मार्ग का अध्ययन किया तो पाया कि इन मार्गो पर नौकरी पेशा सह विद्यार्थियों की आवाजाही बड़ी संख्या में हैं.नौकरी पेशा वाले रोजाना ३ शिफ्ट में आवाजाही करते हैं तो वहीं विद्यार्थीगण सुबह और शाम आवाजाही करते हैं।

    इन सब की संख्या हज़ारों में हैं और बसों की संख्या अल्प होने से पर्याय व्यवस्था को ज्यादा महत्व दी जा रही.साथ ही इन मार्गो पर निजी बसें अवैध परिवहन कर रही हैं.इन मार्गो का सूक्षम अध्ययन कर समय पर बस सेवा दी गई तो ‘आपली बस’ की यात्री और मनपा के राजस्व में इजाफा होना तय हैं।

    ट्रांसपोर्ट मैनेजर से करवाए मार्केटिंग
    एमआईडीसी बुटीबोरी व हिंगणा सहित नाके के बाहर स्कूल-कॉलेज को नियमित व स्वस्त मासिक/सालाना दर बस सुविधा देने के लिए ट्रांसपोर्ट मैनेजर से मनपा प्रशासन मार्केटिंग करवाए।क्यूंकि मनपा ‘सर्विस प्रोवाइडर’ हैं इसलिए मनपा की ओर से पहल करनी अनिवार्य हो.जिसके लिए सक्षम ट्रांसपोर्ट मैनेजर को मासिक ‘टारगेट’ दी जाये।या फिर परिवहन विभाग में सेवानिवृत कर्मियों जिनका ‘परफॉर्मेंस’ शून्य हैं,उनकी जगह मार्केटिंग मैनेजर की नियुक्ति कर यात्रियों की संख्या बढ़ाने हेतु ठोस व गंभीर पहल की जाना चाहिए।


    Stay Updated : Download Our App
    Mo. 8407908145