Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
    | | Contact: 8407908145 |
    Published On : Thu, Aug 2nd, 2018

    मनपा में मुत्तेमवार गुट के संदीप सहारे बने गुटनेता

    नागपुर: मनपा में कांग्रेस का पक्ष नेता सतीश,नितिन व अनिस गुट हैं,इस गुट नेतृत्व से नाराज़ नगरसेवकों ने आज मुत्तेमवार गुट की होटल हेरिटेज में हुई बैठक में उपस्थिति दर्ज करवाने से कांग्रेस में अंदरुनी बवाल मच गया। उक्त बैठक में सर्वसम्मति से कांग्रेस के वरिष्ठ नगरसेवक संदीप सहारे को मनपा के कामकाज का में मुत्तेमवार गुट का नेतृत्वकर्ता घोषित किया गया।

    सहारे के अनुसार इन्हें जानकारी मिली कि उक्त तिकड़ी गुट के नगरसेवक दिनेश यादव,परसराम मान वट कर और नेहा निकोसे के साथ इस गुट के नेतृत्वकर्ता अन्याय कर रहे हैं। वे स्थाई समिति सभापति से दर्जनों प्रस्ताव के लिए पत्र ले रहे लेकिन उन्ही के सामने हमें स्थाई समिति सभापति खुलेआम निधि न देने की बात कह रहे और वे चुप्पी साधे बैठे रहे। इसकी जानकारी मिलते ही सहारे ने उनसे संपर्क कर आज के बैठक के लिए न्योता दिया और मसला सुलझाने का वादा किया तो तिकड़ी गुट से नाराज़ होकर मुत्तेमवार गुट के आज के बैठक में उपस्थित हुए।

    यादव,परसराम आदि की मुत्तेमवार गुट की बैठक में उपस्थिति से तिकड़ी गुट सकपका गई। उक्त नाराज़ नगरसेवक नितिन राउत गुट से थे,इसलिए और ज्यादा हड़कंप राउत गुट में मचा। इसके बाद राउत गुट के सिपाही मनपा में उनके गुट नेता से मिलने और मामले की तहकीकात करने पहुंचे। इसी बीच दिनेश यादव को भी बुलाकर समझाया गया।

    संदीप सहारे के अनुसार उक्त तीनों नगरसेवकों का मुत्तेमवार गुट की बैठक में आने से उनका बहुत कुछ मसला हल हो गया। इससे तिकड़ी गुट फिलहाल सकते में आ गई।

    होटल हेरिटेज में मुत्तेमवार गुट की बैठक खत्म होते ही तय रणनीति के तहत मुत्तेमवार गुट के सभी नगरसेवकों का शिष्टमंडल संदीप सहारे के नेतृत्व में मनपा मुख्यालय में पहुंच स्थाई समिति सभापति के कक्ष में का धमके और किए जा रहे भेदभाव सह समान निधि वितरण का दबाव बनाने के साथ ही साथ सभापति को फटकार लगाए। जिसके जवाब में सभापति ने प्रस्ताव तैयार कर पेश करने की आश्वासन देकर उन्हें शांत किया।

    पुरानी कहावत हैं कि आसमान से गिरे खजूर पर अटके,इस कहावत का उदाहरण देखने को मिला। मुत्तेमवार गुट के नगरसेवक मनपा स्थाई समिति सभापति का सकारात्मक आश्वासन लेकर निकले थे ही कि मनपा आयुक्त का परिपत्रक पढ़ सभी गस्त खा गए।

    उल्लेखनीय यह हैं कि मनपा में अब कांग्रेस के दो गुट खुलकर आमने सामने आ गए,मनपा में दोनों की सक्रियता पर शहर के कांग्रेसियों की नजर रहेंगी,अपने अपने गुट के सर्व नगरसेवक सह शहर के ज्वलंत मुद्दों को तहरिज़ देने वाले की सराहना होनी तय है,यह भी चर्चा होगा कि नेतृत्व क्षमता किसमे हैं।


    Stay Updated : Download Our App
    Mo. 8407908145