Published On : Thu, Nov 20th, 2014

वाशिम : जिला परिषद की पद भर्ती में भाई-भतीजावाद!

 

  • अपात्रों को तरजीह, पात्र को मिली दुत्कार
  • जिलाधिकारी से समिति गठित का जांच करने की मांग

Washim Jila Parishad
वाशिम।
स्थानीय जिला परिषद में विविध विभागों में रिक्त पदों के लिए पिछले सप्ताह से पद भर्ती परीक्षा ली जा रही है. इसमें भाई-भतीजावाद करने के आरोप लग रहे हैं.

प्राप्त जानकारी के अनुसार, जिला परिषद में पिछले एक सप्ताह से रिक्त पदों की लिखित परीक्षा ली जा रही है. इसमें चुनाव समिति के अधिकारियों द्वारा अपने ही रिश्तेदारों को चुन लिए जाने का आरोप रवीन्द्र प्रकाश बंसोड ने मुख्य कार्यकारी अधिकारी से लिखित रूप में शिकायत की है. उन्होंने बताया कि लघु सिंचाई विभाग के अधिकारी चुनाव समिति में हैं. उन अधिकारियों के रिश्तेदारों को चुने जाने के कारण बंसोड ने पद भर्ती में भाई-भतीजावाद को प्रश्रय देने का शिकायत की है. 9 नवम्बर को औषधि निर्माता पद की लिखित परीक्षा ली गई. इस परीक्षा का परिणाम रोक कर रखा गया है. इसलिए जिला परिषद में पद भरती में कहीं कोई गड़बड़ी किए जाने की आशंका व्यक्त की जा रही है. उसी प्रकार जून जुलाई में ली गई ठेका पद्धति पद भर्ती में भी कई अधिकारियों ने पात्र उम्मीदवार को पीछे कर अपने रिश्तेदारों अथवा अपने जाति के अनुभवहीन अपात्रों को उम्मीदवार बनाकर भर्ती करने की भी चर्चा है. इसलिए अब तक ली गई पद भर्ती की सम्पूर्ण जाँच जिलाधिकारी समिति गठित कर करे. ऐसी माँग पीडि़त उम्मीदवारों ने की है. वहीं चुने गए एक उम्मीदवार की उत्तरपुस्तिका में पर्यवेक्षक के हस्ताक्षर स्कैन कर रखने का आभास देखते ही हो रहा है. इसकी जानकारी जिला अधिकारी को दी गई है, पर जिलाधिकारी उस पर कार्रवाई अब तक नहीं की है. उत्तर पुस्तिका की जांच कार्य ओ.एम.आर. की निविदा सिग्मा कंपनी को दिया गया था. अमरावती में इस कंपनी का एक अधिकारी शंका के दायरे में आ गया है. उत्तर पुस्तिका की जांच के लिए उसने यवतमाल की कंपनी को दिया है. वहीं पेपर तैयार करने वाले अधिकारी भी जांच के दायरे में आ गये हैं. जिससे मामले में नया मोड़ आ गया है. इस पूरे प्रकरण की जिलाधिकारी जाँच समिति गठित कर दूध का दूध, पानी का पानी करने की मांग पीडि़त उम्मीदवारों ने की है.