Published On : Fri, Jun 9th, 2017

आत्महत्याग्रस्त किसानों के बच्चों से नागपुर विश्वविद्यालय नहीं वसूलेगा कोई भी शुल्क

Nagpur University
नागपुर:
 राष्ट्रसंत महाराज नागपुर विश्वविद्यालय में आत्महत्या पीड़ित किसान परिवार के बच्चों की सभी प्रकार की फीस माफ करने की मांग डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर विद्यार्थी संगठन की ओर से कुलगुरु डॉ.सिध्दार्थविनायक काणे से की गई थी. जिस पर विचार करने और व्यवस्थापन परिषद में यह बात रखने का आश्वासन दिया गया था. इस मांग पर निर्णय लेते हुए अब आत्महत्याग्रस्त किसानों के बच्चों की फीस माफ करने का निर्णय विश्वविद्यालय ने लिया गया है. हालांकि अभी इस पर अंतिम मोहर लगना बाकी है.

किसान आत्महत्याग्रस्त परिवार से विद्यार्थी अगर नागपुर विश्वविद्यालय के अधीन आनेवाले विभागों में शिक्षारत रहेगा तो उन्हें किसी भी तरह की प्रवेश फी नहीं लेने का तय किया गया है. साथ ही परीक्षा फीस नहीं देनी होगी. लॉ कॉलेज, बीएड कॉलेज और एलआइटी कॉलेज में किसी भी तरह की फीस इन छात्रों से नहीं ली जाएगी. हालांकि बाकी कॉलेजों में इन विद्यार्थियों को फीस देनी होगी. लेकिन नागपुर विश्वविद्यालय इन विद्यार्थियों से परीक्षा शुल्क नहीं लेगा. जिसके कारण उन्हें उन कॉलेजों में केवल प्रवेश फीस ही देनी होगी.

इस संबंध में राष्ट्रसंत तुकडोजी महाराज नागपुर विश्वविद्यालय के कुलगुरु डॉ.सिध्दार्थविनायक काणे ने बताया कि मैनेजमेंट काउंसिल में इस निर्णय पर अंतिम मुहर लगेगी. पीड़ित किसानों के बच्चों को कोई भी फीस नहीं देनी होगी. इसका लाभ पाने के लिए पीड़ित विद्यार्थियों को आत्महत्याग्रस्त परिवार से होने का कोई भी प्रमाण अपने विभाग में दिखाना होगा.