Published On : Thu, May 21st, 2020

अब हवाई यात्रा के पहले ध्यान रखें कुछ जरूरी नियम

उड़ानें तय होने पर शुरु होगी टिकट बुकिंग

नागपुर: गुरुवार को नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने 25 मई से एक तिहाई आरंभ होने वाली घरेलू उड़ानों के लिए स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसीजर (एसओपी) की घोषणा कर दी, लेकिन संतरानगरी के डॉ.बाबासाहब आंबेडकर अंतरराष्ट्रीय विमानतल सहित कितने विमानतलों से शुरुआत में उड़ान भरी जाएगी यह स्पष्ट नहीं किया गया है।

संतरानगरी की स्थिति विमानतल से मार्च में करीब 35 उड़ानें भरी गई थीं, नए नियम की वजह से कयास लगाए जा रहे हैं कि शुरुआत में करीब 12 उड़ानों को अनुमति मिल सकती है। जैसे ही विमान कंपनियों को रूट और समय मिलेगा, इसे स्पष्ट किया जा सकेगा। बाद में धीरे-धीरे उड़ानों को बढ़ाया जाएगा। विमानतल पर काली पीली टैक्सी और अकबर ट्रैवल्स दो रजिस्टर्ड एजेंसियां हैं, जिन्हें विमानतल से यात्रियों को ले जाने की अनुमति रहेगी, जिससे सैनेटाइजिंग, सोशल डिस्टेंसिंग का सही तरीके से पालन हो सके।

बदलाव की वजह से विमान कंपनियाें को पहले नागर विमानन निदेशालय (डीजीसीए) से रूट और समय की अनुमति लेनी पड़ेगी। साथ ही सोशल डिस्टेंसिंग के मुद्दे पर विमानतल प्रशासन से भी समय और यात्रियों की संख्या को लेकर चर्चा की जाएगी। जिसके बाद बुकिंग होगी। 25 मई से सभी विमानतलों को उड़ानों के लिए तैयार रहने को कहा गया है।

यात्रियों के लिए जरुरी
घोषणा के अनुसार एक यात्री से फिलहाल कम से कम साढ़े 3 हजार से अधिकतम 10 हजार तक किराया वसूला जा सकता है। शुरुआत की 40 फीसदी सीट 6,700 रुपए में मिलेंगी। यह किराया तीन महिने तक फिक्स ही रहेगा, जिससे विमान कंपनियों की मनमानी नहीं चलेगी। वहीं, यात्री को विमानतल पर 2 घंटे पहले पहुंचना होगा और यदि उड़ान में 4 घंटे का समय है, तो आपको टर्मिनल की बिल्डिंग में एंट्री नहीं मिलेगी।

इनका कहना है
विमानतल के वरिष्ठ संचालक एम.ए.आबिद के मुताबिक डीजीसीए से रूट और समय मिलने के बाद ही उड़ानों की जानकारी मिलेगी। एक तिहाई उड़ानों को अनुमति दी गई, तो शायद 12 उड़ानों को अनुमति मिल सकती है। विमानतल पर कैब की दो एजेंसिया पहले से ही रजिस्टर्ड हैं। उड़ानों के लिए अनुमति मिलने पर ही जानकारी होगी कि किस रूट पर कितनी उड़ानों को अनुमति मिलने वाली है।