Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
    | | Contact: 8407908145 |
    Published On : Mon, Oct 1st, 2018

    लापरवाही : आनन फ़ानन में सीज़र के दौरान नवजात के सिर पर लगा ब्लेड, लगाने पड़े टाँके

    नागपुर: प्रसव पीड़ा सह रही एक महिला का आनन-फानन में सीजर आपरेशन कर रहे डागा हास्पिटल के डाक्टरों की हड़बड़ी से नवजात के सिर पर ब्लेड लग गई. इससे उसके सिर पर टांके लगाने पड़े. उधर, आपरेशन के बाद महिला 5 दिनों तक बेहोशी की हालत में रही. परिजनों का कहना है कि डागा हास्पिटल के डाक्टरों ने महिला को सीजर से पहले जरूरत से अधिक एनेस्थिशिया दे दिया था. महिला का नाम गुलनाज परवीन शेख इमरान है.

    जानकारी के अनुसार, गुलनाज को 25 सितंबर को डागा हास्पिटल में भर्ती करवाया गया. डाक्टरों ने इसी दिन उसका सीजर आपरेशन किया. लेकिन सीजर के दौरान डाक्टर द्वारा उपयोग की जा रही सर्जिकल ब्लेड बच्चे के सिर लग गई. आपरेशन के बाद डाक्टरों को अपनी गलती का पता चला तो तुरंत की 2 टांके लगा दिए गए. अपनी लापरवाही टालने के लिए डाक्टरों ने गुलनाज और बच्चे को अगले ही दिन यानि 26 सितंबर को डिस्चार्ज करके मेडिकल रेफर कर दिया.

    सीजर के बाद से गुलनाज के शरीर पर सूजन आनी शुरू हो गई. दूसरी ओर, उस पर एनेस्थिशिया का असर इस कदर हुआ कि करीब 4 दिन तक बेहोश सरीखी रही. पहले तो डाक्टरों ने परिजनों को गुलनाज की दोनों किडनियां खराब होने की संभावना जताकर परेशान कर दिया. लेकिन जब वरिष्ठ डाक्टरों ने स्वयं जांच की तो पता चला कि यूरिन ब्लैडर में परेशानी है. यूरिन होते ही सूजन भी कम हो जाएगी. रविवार को ऐसा ही हुआ जिससे गुलनाज के परिजनों ने राहत की सांस ली, लेकिन इस दौरान नवजात के सिर पर लगे 2 टांकों ने घबराहट बनाए रखी.

    उधर, मामले की जानकारी मिलते ही युवा सेना के जिला अध्यक्ष हितेश यादव ने पीड़ित परिवार के लिए मेडिकल में डाक्टरों से बात की. युवा सेना के दबाव में वरिष्ठ डाक्टरों ने गुलनाज को अपनी निगरानी में लिया. वहीं, हितेश का कहना है कि पूरे मामले में पीड़ित महिला और नवजात की जान की कोई परवाह नहीं की गई.

    पहले डाक्टर के हाथों सीजर के दौरान नवजात के सिर पर ब्लेड लग जाती है. फिर उन्हें इलाज देने की बजाय आपरेशन के अगले ही दिन मेडिकल भेज दिया जाता है. उन्होंने कहा कि डागा हास्पिटल की इस घोर लापरवाही के खिलाफ युवा सेना द्वारा सोमवार को विरोध प्रदर्शन किया जाएगा. साथ ही एक नवजात और उसकी मां की जान जोखिम में डालने वाले जिम्मेदार डाक्टर को तत्काल प्रभाव से बर्खास्त करने की मांग की जाएगी.

    Stay Updated : Download Our App
    Mo. 8407908145