Published On : Tue, Oct 10th, 2017

मेट्रो के आंबेडकर चौक की दुर्घटना की गिरी 2 प्रभारी अभियंताओं पर गाज, निलंबन की की गई कार्रवाई


नागपुर: सीए रोड पर रीच-4 के चल रहे मेट्रो परियोजना के निर्माण कार्य के दौरान आंबेडकर चौक पर रविवार को स्टील गर्डर गिरने से दो महिलाएं जख्मी हो गईं। इस दुर्घटना को मेट्रो प्रशासन ने गंभीरता से लिया है। दुर्घटना के कारणों का पता लगाने गठित की गई थी। इसके बाज लापरवाही बरतने पर 2 प्रभारी अभियंताओं को निलंबित कर दिया गया है। साथ ही आईटीडी सीमेंटेशन कंपनी को १० लाख रुपए और एजीआईईएस (AGIES) कंपनी को सुरक्षा के प्रति लापरवाही बरतने पर 2 लाख रुपए का जुर्माना ठोंका गया। प्रभावित परिवार के संबंध में मेट्रो प्रशासन ने हॉस्पिटल प्रबंधन से चर्चा कर उपचार संबंधि व्यवस्था की भी जानकारी ली।

महा मेट्रो के व्यवस्थापकीय संचालक डॉ. बृजेश दीक्षित के निर्देश पर जांच कमेटी ने जांच पड़ताल कर लापरवाही बरतने वालो़ं के विरुद्ध अपनी रिपोर्ट दी थी। संचालक (परियोजना) महेश कुमार और महाप्रबंधक(प्रशासन) अनिल कोकाटे की प्रमुख उपस्तिथी में हुई बैठक में कार्रवाही संबंधी जानकारी दी गई। बैठक में सुरक्षा संबंधी महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए। निर्णय पर तुरंत अमल करने की भी चेतावणी दी गई। साथ ही स्पष्ट निर्देश दिए गए कि काम में किसी भी प्रकार की कोताही उजागर होने पर सक्त कार्रवाही करने के साथ ही दंड वसूला जाएगा।

बैठक में कार्यकारी संचालक देवेंद्र रामटेक्कर रिच-1 के मुख्य परियोजना प्रबंधक एवं सुरेश कुमार, महादेव स्वामी, अरुण कुमार, जनरल कंसलटंट संचालक (परियोजना) मो. हसन झझाऊ, कंपनी के वरिष्ठ अधिकारी, ट्राफिक कंसलटट अरविंद गिरी उपस्थित थे। संचालक (परियोजना) महेश कुमार ने बैठक में उपस्थितों को स्पष्ट निर्देश दिए की रात 11 से लेकर सुबह 5 बजे तक ड्रिलिंग का काम बंद रहेगा। सभी कार्य स्थलों की पेट्रोलिंग करने, सभी बेरिकेड व्यवस्थित करने, नुक्कड़ों पर हाफ बेरिकेड लगाने, जहां कहीं भी बेरिकेड खुले रहेगे वहां सावधानी बरतने के लिए लाल झंडों के साथ ट्राफिक कर्मी तैनात करने के भी निर्देश दिए गए हैं। तथा ट्राफिक मार्शल की संख्या बढ़ाने, बेरिकेड के आस- पास पड़ी मिट्टी को हटाने, कार्य स्थल पर सांकेतिक चिन्ह लगाने, भारी उपकरण और क्रेन की कार्यप्रणाली के दौरन विशेष सावधानियां बरतने के भी दिशा निर्देश दिए गए। उपरोक्त कार्यप्रणाली और कार्य की नियमावली की उपेक्षा करने वाले के विरुद्ध सख्त कदम उठाने के भी संकेत दिए गए।