Published On : Thu, Jul 14th, 2016

नागपुर: एंटी करप्शन ब्यूरो (एसीबी) ने 21 लाख रुपए की घूस मांगनेवाले उप निबंधक को दबोचा

deputy-registrarNagpur: एंटी करप्शन ब्यूरो (एसीबी) ने 21 लाख रुपए की घूस मांगनेवाले उप निबंधक को दबोचा है. लंबे समय के बाद दुय्यम उप निबंधक कार्यालय का अधिकारी एसीबी के हाथ लगा है. इस कार्रवाई से दुय्यम उप निबंधक कार्यालय में खलबली मची हुई है.

आरोपी महेंद्र भाऊसाहब मगर (44) निर्मल नगरी, भांडे प्लॉट चौक है. मगर रघुजी नगर के दुय्यम उप निबंधक कार्यालय में उप निबंधक है. शिकायतकर्ता राजेश काकडे. मां सर्वमयी नागरी सहकारी पत संस्था के व्यवस्थापक और जॉइंट मल्टीस्टेट क्रेडिट को-ऑपरेटिव सोसायटी के अध्यक्ष हैं. केंद्रीय सहकार आयुक्त, दिल्ली की ओर से सहकार विभाग को पत संस्थाओं की जांच करने संबंधित दिशा-निर्देश समय-समय पर जारी किए जाते हैं. इसी के आधार पर मगर ने दोनों पत संस्था के कामकाज की जांच की.

मगर ने काकडे. को दोनों पत संस्थाओं के कारोबार में धांधली होना बताया. उसने सभी संचालकों के खिलाफ धोखाधड.ी तथा गबन का मामला दर्ज कराने की धमकी दी. इस धमकी से काकडे. तथा अन्य संचालक घबरा गए. दोनों पत संस्थाओं में 30 संचालक हैं. मगर ने प्रत्येक संचालक के बदले में तीन-तीन लाख रुपए के तौर पर 90 लाख रुपए मांगे. काकडे. के पांच-छह संचालक नहीं होने का हवाला देने पर मगर 78 लाख रुपए मांगने लगा. उसने रुपए नहीं देने पर काकडे. को कार्रवाई के लिए तैयार रहने को कहा.

अप्रैल से मई के दौरान मगर और काकडे. से बातचीत चलती रही. काफी मान-मनौवल के बाद मगर 21 लाख रुपए लेने पर अड. गया. यह देखकर काकडे. ने एसीबी में शिकायत की।

प्लॉट बेचने का दबाव

काकडे. की पत संस्था का एक प्लॉट है. घूस की राशि का प्रबंध नहीं होने की बात कहने पर मगर ने काकडे. को प्लॉट बेचने को कहा. ग्राहकों का अभाव होने का हवाला देने पर मगर ग्राहक खोजकर लाने के लिए तैयार हो गया. मगर शनिवार-रविवार को पुणे चला जाता है. संदेह है कि इसी दौरान वह घूस की राशि को साथ ले जाता है. उप निबंधक कार्यालय में घूसखोरी आम बात है.