Published On : Sat, Aug 29th, 2020

नागपुर-छिंदवाड़ा का संपर्क टूटा ,24 घन्टे से नेशनल हाईवे से बंद

– बाढ़ में फंसे युवक को एनडीआरएफ ने किया रेस्क्यू, हेलीकॉप्टर की मदद से निकाला बाहर,सभी नदियां और डैम लबालब,कई गांव जलमग्न,नागपुर को पानी देने वाला तोतलाडोह और माचागोरा डैम ओवरफ्लो,बारिश से हालात बिगड़े,मकान गिरने से महिला समेत 2 बच्चों की मौत, 6 घायल

छिंदवाड़ा– बंगाल की खाड़ी में बने सिस्टम ने भाेपाल समेत पूरे मध्यप्रदेश काे फिर बारिश से तर कर दिया। लगातार बारिश के चलते हालात बिगड़ रहे हैं। लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। आलम यह है कि छिंदवाड़ा जिले के चांदामेटा में वार्ड नंबर 2 पुरानी बस्ती में स्थित मकान की दीवार ढहने से एक महिला सहित दो बच्चों की मौत हो गई। घटना सुबह 6 बजे की बताई जा रही है। मृतकों में किरण डेहरिया 32, बेटी साक्षी 13 और आदित्य 3 शामिल हैं।

गुरुवार रात से जारी मूसलाधार बारिश के चलते छिंदवाड़ा का प्रदेश के दूसरे जिलों और पड़ोसी राज्यों से संपर्क टूट गया है। नेशनल हाईवे पर पानी आने से आवागमन पूरी तरह बंद हो गया है। बारिश के कारण किसानों की फसलें खराब हो गई हैं ,छिंदवाड़ा-नागपुर मार्ग पर गहरानाला उफान पर होने से पिछले 24 घण्टो से रोड बंद हैं। नरसिंहपुर मार्ग पर सिंगोड़ी के समीप बने पेंच नदी के पुल के ऊपर पानी जाने के बाद इस मार्ग का भी संपर्क जिले से टूट गया।

भारी बारिश के कारण माचागोरा डैम के 7 गेट खोले गए। गेट खुलने के कारण पेंच नदी उफान पर आ गई जिसके कारण घोघरा के पास मछुआरा फंस गया। बाढ़ से बचने के लिए युवक पेड़ पर चढ़ गया। इस दौरान शुक्रवार को उसका रेस्क्यू किया गया लेकिन सफलता नहीं मिल पाई। प्रशासन ने एनडीआरएफ की टीम नागपुर से बुलाई थी। देर शाम होने के कारण नागपुर से हेलीकॉप्टर छिंदवाड़ा नहीं आ पाया। शनिवार सुबह एनडीआरएफ के हेलीकॉप्टर ने नदी में फंसे युवक का रेस्क्यू कर बाहर निकाला।

भारी बारिश की वजह से पेंच और कन्हान नदी उफान पर है। पेंच नदी में बाढ़ की वजह से माचागोरा डैम के सभी गेट खोल दिए गए हैं। उसके बाद कई इलाकों में बाढ़ जैसे हालात उत्पन्न हो गए हैं। डैम के गेट खुलने के बाद कई पुलों के ऊपर से पानी बह रहा है। प्रशासन ने कहा है कि आवश्यकता पड़ने पर डैम गेटों को अधिक ऊंचाई तक खोला जा सकता है। इन गेटों के खुलने से तोतलाडोह बांध में पानी भरता है, जिससे कि महाराष्ट्र के नागपुर एवं आसपास के क्षेत्र में पानी जाता है। उसके पूरे भरने की संभावना भी बढ़ गई है, जो कि नागपुर शहर के लिए भी राहत की बात है।

सौंसर क्षेत्र में कन्हान नदी के रौद्र रूप के चलते नदी किनारे पर बसे हुए गांवों को खाली करा लिया गया। प्रशासन की मौजूदगी में लोगों को सुरक्षित स्थानों पर भेजा गया है। प्रशासन ने लोगों को अलर्ट भी किया है कि पानी वाले इलाकों में न जाएं।

विजय धवले, छिंदवाड़ा